• #बतकहीबाज : Surgical strike! दुकानों पर दुश्मन के बंकर की तरह लोग नजर रखते हैं

    Vinay Kumar Pandey
    व्यंग्य

    बनारस पुलिस की खिंचाई करना बंद करते हैं। उम्मीद है, तय वक्त पर पुलिसवाले खुद-ब-खुद बनारस के उत्पातियों खींच लेंगे। आइए, इस बार Common person की जेब के अंदर घुस कर देखा जाए। दरअसल Dry Fruits अभी भी Common person की जेब से उतने ही किलोमीटर दूर हैं जितने किलोमीटर के फासले पर अपने Security agencies से दाऊद इब्राहिम है। ऐसे में Dry Fruits और ओरिजिनल खोवे की मिठाइयां नेताओं के चुनावी वादों की तरह हर वर्ग को लुभाती हैं। Dry Fruits और मिलावटी खोवे की मिठाइयां हर सीजन में बिना विचलित हुए प्रचलित होती हैं। नेताओं के चुनावी वादों की तरह Dry Fruits और खोआ में भी आकर्षक बनावट के साथ हर्रऊल मिलावट होती है। चुनावी वादे हों या Dry Fruits और खोवे की मिठाई, Common person दोनों ही चटखारे लेकर चट्ट करता है। बाद में बिना किसी बीमा के देश और स्वयं के स्वास्थ्य का कीमा बनाता है।

    सजगता और आक्रोश

    पिछले कुछ वक्त से Dry Fruits और खोवे को लेकर सजगता और आक्रोश महामारी की तरह फैला है। नकली Dry Fruits और खोवे के खिलाफ मुहिम गिरते स्वास्थ्य के लिए संजीवनी का काम करती है। त्यौहारों का सीजन आते ही बिना किसी दबाव के खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम को Public के स्वास्थ्य की चिंता सताने लगती है। फिलहाल अभी विभाग के लोग आराम कर रहे हैं। दीपावली के समय खाद सुरक्षा विभाग की टीम के जागने के आसार हैं। जिस तरह से दीपावली पर दीप जलाना शुभ माना जाता है उसी तरीके से नकली Dry Fruits और खोवे की मिलावटी मिठाई की बिक्री के साथ उसके जब्त होने की खबर टीवी पर देखना और News papers में पढ़ना लाभ-शुभ की बोहनी का संकेत होता है।

    कैसे सुरक्षित रहना है?

    जब खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम मिठाइयों में मिलावट को रोकने के लिए छापेमारी करती है तो Common person को एहसास होता है कि त्यौहार पर आतंकी हमले से ज्यादा मिलावटी मिठाई से सुरक्षित रहने की जरूरत है। सभी मिठाई की दुकानों पर दुश्मन के बंकर की तरह लोग नजर रखते हैं। खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम जगह-जगह Surgical strike कर मिलावटी मिठाई जब्त करती है। नकली मिठाइयों की Sampling की जाती है। बिन मांगे इस Surgical strike के Evidence भी खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं। समझ में आया, त्योहारों के सीजन में कैसे सुरक्षित रहना है?

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!