• #बतकहीबाज : Opposition! बिन सत्ता नहीं लगता अच्छा, वक्त जल्दी कटता नहीं

    Vinay Kumar Pandey
    व्यंग्य

    पता होगा आपको! उनकी हिम्मत कमाल की है, लाजवाब हैं वो लोग, किस्मत जबराट टनाटन है। Law से वो डरते नहीं। क्यूंकि Law इनके ही Brain का Child होता है। छोटे-मोटे इंसान की कहां पूछ? कुछ भी हो जाए, कोई कुछ भी कह दें इन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। शानदार तरीके से पलटकर वो Dialog दागते नहीं कि कई News जन्म ले लेती है। अक्सर Winter season में इनके पुतले जलाना ज्यादा अच्छा समझा जाता है, ताकि आम कार्यकर्ता आग सेंक सकें। खबरची नया शब्द बाण लपकने के लिए इनकी टोह में रहते हैं। समझ गए होंगे किसकी बात हो रही है? जी हां, बिल्कुल सही पकड़ा आपने।

    राज की नीति

    Politics से जुड़े पुरनिए कहते है, मंत्री शब्द ही मंत्र से बना है। सत्ता में आने के बाद तभी तो पांच साल सभी नए मंत्र रचे और बांचे जाते हैं। लेकिन आह! पांच साल खत्म होते देर नहीं लगती। इधर, पांच साल से Opposition में रहे, बिन सत्ता अच्छा न लगने की अवधि जल्द खत्म होने का नाम नहीं लेती। पूर्व शासक कहते हैं, इनका मानसिक संतुलन बिगड़ चुका है या मानसिक दिवालियापन के शिकार हो गए हैं। कितनी आसानी से कह दिया, राज की नीति कर रहे वक्ता सोचने की कोशिश नहीं करते, मानसिक संतुलन बिगड़ने पर सामने वाला क्या बिना कपड़े के टहलान दे रहा है?

    नींद में भी लाल बत्ती

    एक Dialog लंबे अरसे से सुनते आ रहे होंगे, Government किसी भी Political party की हो शासक मंत्री इत्ता जरूर कहेंगे, सार्वजनिक छवि को धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा है। विपक्ष का बयान छपेगा, देश-प्रदेश में Government नाम की चीज नहीं। मतलब Government भी एक स्वादिष्ट चीज है? देखने में आया है जिसकी Government होती है, वह सिर ऊंचा कर चलता है। अच्छी किस्म की कार भी उसके पास होती है। और हां, कार की लाल बत्ती चाहे उतार कर पूजा रूम में सजा दी जाए लेकिन Brain में बड़ी वाली लाल बत्ती नींद में भी जलती रहती है।

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!