• #बतकहीबाज : इस्तेमाल! उन्होंने अधिकृत रूप से उम्मीद का दामन और दुपट्टा नहीं छोड़ा

    Vinay Kumar Pandey
    व्यंग्य

    कभी गौर किया है आपने, हेल्थ एक्सपर्ट्स बिन पूछे ही मॉर्निंग वॉक के फायदे गिनवाने लगते हैं। इसी फायदे को लपकने की आशा में मेरे पड़ोसी गुप्ता जी पिछले कई सालों से मॉर्निंग वॉक पर जा रहे हैं। बात अलग है, उनके अकाउंट में अभी तक 15 लाख रुपये जमा होने का कोई मैसेज नहीं आया है। हालांकि सूत्रों ने बताया है, उन्होंने अधिकृत रूप से उम्मीद का दामन और दुपट्टा नहीं छोड़ा है। गुप्ता जी बकायदा गिनाते हैं, सुबह की पदचाप से रक्तचाप चुपचाप रहता है। सुबह की मीठी नींद का मोह छोड़ देने से मधुमेह भी आपको स्नेह निमंत्रण प्रेषित नहीं करता है। सुबह की सैर के नोटबंदी और जीएसटी से भी ज्यादा फायदे होते हैं।

    नींद द्वारा बंधक

    बात करने पर उन्होंने बताया, सबसे बड़ा लाभ तो यही होता है कि सुबह जल्दी सैर पर जाने से पड़ोसियों को यह पता चल जाता है कि आप रात को जल्दी ही नींद द्वारा बंधक बनाए जाने के शौकीन हैं। उनका कहना है, शौक बड़ी चीज होती है? सुबह की सैर पर जाना भी एक तरह का शौक ही तो है। जबकि इसके ठीक उलट शर्मा जी बताते हैं, जब तक कुछ लोग सुबह की सैर पर नहीं जाते तब तक उनका प्रेशर ही नहीं बनता। साथ ही वे रोज सुबह सैर पर जाकर कर दूसरे लोगों पर भी सैर पर जाने का मोरल प्रेशर बनाते हैं। इस तरह से सुबह की सैर की सहायता से कुछ लोग बिन किसी सामग्री के दबाव बनाना सीख जाते हैं।

    गले लगाने को तैयार

    गुप्ता जी के मुताबिक, मॉर्निंग वॉक पर स्वच्छ और ताजा हवा आपको मुसीबतों की तरह गले लगाने को तैयार रहती है। वह दिन चढ़ने पर अच्छे दिनों की तरह दूर भागती है। मॉर्निंग वॉक पर हर आयु-वर्ग के लोग जाती-धर्म की दीवार फांद कर अपना स्टेमिना और जलवा दिखाने को बेताब और बेकाबू रहते हैं। मॉर्निंग वॉक का नजारा देश में किसी भी तरह की असमानता को ठीक उसी तरह से झूठलाता है जिस तरीके से चीन और पाकिस्तान आतंकवाद को झूठलाता है। देश में असली समाजवाद को सुबह की सैर के जरिये ही इंस्टॉल किया जा सकता है। वहीं शर्मा जी का कहना है, मॉर्निंग वॉक का दृश्य बिग बॉस के घर की तरह ही विभिन्नता में विषमता लिए हुए होता है। कई मॉर्निंग वाकातुर प्राणी मॉर्निंग वॉक के वक्त का उसी तरीके से सदुपयोग करते हैं जैसे सरकारी कर्मचारी सुबह 10 से शाम 5 बजे तक के अपने कार्यालयीन समय में हर मिनट का इस्तेमाल करते हैं।

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!