• BHU : देर रात बाहरी और छात्रों के बीच मारपीट, सुबह इन मुद्दों को लेकर कैंपस में विरोध-प्रदर्शन

    वाराणसी। काशी हिंदू विश्वविद्यालय में हिंदी में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। देर रात छात्र भिड़े। चौकी इंचार्ज को सस्पेंड किया गया। सोमवार को सुबह कैंपस में छात्र-छात्राओं ने दो अलग-अलग मुद्दों को लेकर विरोध-प्रदर्शन किया। शायद ही कोई ऐसा दिन हो जिस दिन कैंपस में विरोध-प्रदर्शन न हो रहा हो।

    बाहरी व छात्रों के बीच जमकर बवाल

    दरअसल लंका क्षेत्र में देर रात बाहरी व छात्रों के बीच जमकर बवाल हुआ। पहुंची पुलिस से न सिर्फ युवा उलझ पड़े, बल्कि सिपाही को भी जख्मी कर दिया। छात्रों संग मारपीट की शिकायत पर चितईपुर चौकी प्रभारी को सस्पेंड कर दिया गया है। लंका स्थित चाय की दुकान पर बीएचयू के छात्रों व छित्तूपुर के कुछ युवकों के बीच विवाद की सूचना पर चितईपुर चौकी प्रभारी प्रकाश सिंह व सिपाही सुमित कुमार मौके पर पहुंचे। यहां लड़के पुलिस से भी उलझ गए और सिपाही सुमित पर हमला कर उसका सिर फोड़ दिया।

    …और छात्रों ने शुरू कर दिया हंगामा

    मारपीट के दरमियान चाय की भट्ठी को भी तोड़ दिया गया, जिसका आरोप छात्रों ने पुलिस पर ही लगाया। घटना के कुछ देर बाद काफी संख्या में पहुंचे छात्रों ने लंका थाना घेरकर हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की सूचना पर सीओ भेलूपुर और इंस्पेक्टर लंका ने मौके पर पहुंचकर छात्रों को समझाने का प्रयास किया। छात्रों का आरोप है कि मारपीट छुड़ाने गए आइसा के छात्र विवेक कुमार और प्रियंकमणि की पिटाई करते हुए पुलिस वाले लंका थाने ले आए और अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए गोली मारने की धमकी भी दी। मारपीट में छात्र विकास सिंह व अभय भी घायल हुए हैं। सीओ ने घटना के बारे में एसएसपी को जानकारी दी जिसके बाद चितईपुर चौकी प्रभारी को सस्पेंड कर दिया गया। एसपी सिटी दिनेश सिंह ने भी मौके पर पहुंचकर मामले की जानकारी ली।

    बवाल का सबब

    लंका क्षेत्र में लंकेटिंग के नाम पर देर रात तक चाय-पान की दुकानें खुली रहती हैं। बीएचयू छात्रों सहित आस-पास के युवाओं का रातभर यहां जमावड़ा लगा रहता है। यह जुटान अक्सर मारपीट और बवाल का सबब भी बनती है जिसका खामियाजा दुकानदारों को ही भुगतना पड़ता है। देर रात खुलने वाली दुकानों पर कार्रवाई को लेकर पुलिस भी अब तक निष्क्रिय साबित हुई है।

    कैंपस में नारेबाजी

    दूसरी तरफ सोमवार को सुबह बीएचयू परिसर एक बार फिर आजादी के नारों से गूंज उठा। महिला महाविद्यालय की छात्राओं द्वारा आजादी के नारे लगाये गए। उधर संस्कृतविद्या धर्मविज्ञान संकाय में भी छात्रों ने प्रदर्शन किया। संकाय में अल्पसंख्यक प्रोफेसर फिरोज खान की नियुक्ति का छात्र विरोध कर रहे थे।

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!