Politics एडिटोरियल 

Politics के उल्टे फेरे : अभी वो जिस परेशानी में है उसे इससे बल मिलता लेकिन मदद का नाटक!

Ajit Mishra

Bihar : इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ता सौरव तिवारी ने वायरल खबर पर संज्ञान लेते हुये कल बताया था कि जिलाधिकारी रोहतास श्री पंकज दीक्षित नें रात 10.35 में मुझे सूचित किया कि सुनिता जिनके पति का सासाराम में 16 मई को देहांत हो गया था और लाकडाउन कि वजह से अपनें बहन के घर में दिल्ली फँस गयीं थीं उनके आनें का इंतजाम कर दिया गया है। वायरल खबर के बाद से हीं सौरव जी बहुत परेशान से थे और इसमें उनसे क्या हो सकता है इसको लेकर दिल्ली और सासाराम में अपने सूत्र तलाश रहे थे। उन्हें दिल्ली में संजीव श्रीवास्तव और सासाराम के मिलनसार और तेजतर्रार डीएम पंकज दीक्षित का भरपूर साथ भी मिला। रविवार को अपरान्ह में श्री तिवारीजी ने कहा था कि इस पुरी कड़ी में दिल्ली के नेता संजीव श्रीवास्तव कि भूमिका सराहनीय रही तथा सासाराम के युवक अंकित वर्मा का भी सहयोग काबिले तारीफ रहा। जिलाधिकारी सासाराम कि संजीदगी को मेरा सलाम जो मेरी सूचना पर तुरंत हरकत में आए। महिला का कोरोना रिपोर्ट भी निगेटिव आया है।

अब आपदा काल में भी कांग्रेस की राजनीतिक नाटक

बिहार में चुनाव के मद्देनजर चमच इस पीड़ा जनक कहानी को अपने हित में ट्विस्ट देने को सक्रिय हो गए। सब जानते हैं। अंतरात्मा की आवाज पर पीड़िता का वीडियो वायरल होने के बाद अधिवक्ता सौरव तिवारी, दिल्ली के संजीव श्रीवास्तव और सासाराम के डीएम पंकज दीक्षित ने अपने स्तर से अनुकरणीय और स्तुत्य पहल किया। लिहाजा पीड़िता को शांति सहयोग मिल सका।

कांग्रेस का राजीतिक नाटक शब्दों में हूबहू देखिये

मिशन सासाराम सफल, प्रियंका गांधी ने बिट्टू के पढ़ाई का पूरा खर्च उठाने की बात कही.

दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर से कल सासाराम अनुमंडल निवासी सुनीता जी का वायरल वीडियो Rohtas District पर पोस्ट किया गया था. वीडियो देख उक्त महिला की बेटा के दोस्त का कॉल आया, जो बिट्टू से बात करवाया. बिट्टू कल शाम से डरा हुआ और बार-बार कॉल कर रो रहा.. मेरी मां को कुछ नहीं होगा न.. पापा नहीं है अब.. उसने बताया कि मां को बॉर्डर पर स्थित शेल्टर होम में ले जाकर रखा गया है.. मां को आने का कोई उपाय नहीं है.. Rohtas District टीम के ही सदस्य समीर सिंह इन्द्रमान संपर्क किया, जो कि दिल्ली में रहते है.. उन्होंने तत्काल राहुल गांधी तक बात पहुंचाई. राहुल गांधी ने इंडियन यूथ कांग्रेस के प्रेसिडेंट श्रीनिवास से महिला को घर पहुंचाने की बात कही. जिसके बाद श्रीनिवास ने Indraman Singh से संपर्क किया एवं आज सुबह 07 बजे ही सेल्टर होम पहुंच गया. जहां से महिला को कांग्रेस कार्यालय ले जाया गया. वहां महिला से कॉल पर प्रियंका गांधी ने बात की. प्रियंका गांधी ने बिट्टू के पढ़ाई का पूरा खर्च उठाने के साथ स्किल के मुताबिक जॉब की भी बात कहीं. वहीं उक्त महिला को स्पेशल वाहन से सासाराम के लिए रवाना किया गया है. रोहतास जिलाधिकारी ने भी महिला को हरसंभव मदद की बात कही है. इस खबर पर सासाराम के लोगों की प्रतिक्रिया थी कि प्रियंका चाहतीं तो उस पीड़िता को लाख-दो लाख रुपये की मदद दे सकती थीं। अभी वो जिस परेशानी में है उसे इससे बल मिलता लेकिन मदद का नाटक! कल योगी जी ने भी इसके मदद के नाटक का पटाक्षेप कर दिया।प्रमुख सचिव ने लेटर जारी कर कहा है कि मजदूरों हेतु हम 1 हजार बसें लेने को तैयार हैं। लेटर के बाद सभी चापलूसों को काठ मार गया है। बहरहाल मैं वरिष्ठ अधिवक्ता सौरव तिवारी जी सहित दिल्ली के संजीव श्रीवास्तव जी, रोहतास के डीएम पंकज दीक्षित जी और अंकित वर्मा जी को भी साधुवाद देता हूं और दिल की गहराइयों से प्रणाम करता हूं।

सोशल मीडिया में प्रकरण आने के बाद

सासाराम कि सुनिता प्रकरण पर मेरा स्पष्टीकरण-


इस उपरोक्त विडियो लिंक को सुनिए इसके अंत में कश्मीरी रिपोर्टर कोई कौल है नेता संजीव श्रीवास्तव का नंबर सुनिता के बगल में खड़े एक युवक को नोट करवाता है। यहीं से मुझे नंबर मिलता है संजीव का तत्पश्चात मैंनें जिलाधिकारी रोहतास श्री पंकज दिक्षित से बात करके उनको सारी परिस्थिति से अवगत कराया। उन्होंने महिला के परिवार का कोई संपर्क नंबर मुझसे माँगा मैंनें संजीव श्रीवास्तव से बात किया और महिला कि स्थिति जानीं जहां मुझे बताया गया कि महिला का कोरोना रिपोर्ट निगेटिव है और वह सुरक्षित है। तत्पश्चात संजीव नें मुझे सासाराम के युवक अंकित वर्मा जो रोहतास जिला न्यूज पोर्टल चलाता हैं उनका नंबर दिया और बताया कि सासाराम में सुबह से यहीं लड़का हमारे संपर्क में था। तत्पश्चात मैंनें अंकित वर्मा को फोंन लगाया और सुनिता के परिवार से संपर्क स्थापित करनें कि कोशिश की। उसी दौरान जिलाधिकारी रोहतास खुद परेशान थे और अंततः जिलाधिकारी नें आधिकारिक स्तर से मुझे रात 10:35 में सूचित किया कि महिला के आनें का इंतजाम हो गया है। जिलाधिकारी कि ऐसी संजीदगी काबिलेतारीफ है ऐसे अधिकारियों कि हीं इस मुश्किल घड़ी में जनमानस को आवश्यकता है। तत्पश्चात मैंनेंं रोहतास जिला फेसबुक पेज चलानें वाले अंकित कुमार वर्मा +918804370617 को बताया कि जिलाधिकारी महोदय उस महिला कि हरसंभव मदद करेंगे। और आगे जो भी जरूरत होगी तो संपर्क करिएगा। मेरा उदेश्य एक इंसान और सजग नागरिक होंनें के नाते उस महिला/सुनिता तक जिलाधिकारी रोहतास के माध्यम से मदद पहूँचानें से था। क्योंकि सुनिता को देखकर मैं रो पड़ा था।
धन्यवाद
सौरभ तिवारी

error: Content is protected !!