• एक्ट्रेस बनाने का झांसा देकर नाबालिग लड़कियों का सौदा, चंगुल से निकली एक किशोरी ने परिजनों से आपबीती सुनाई तो परिजनों ने कैंट थाने में दर्ज कराया केस

    वाराणसी। फिल्म में काम दिलाने के नाम पर नाबालिग लड़कियों को बेचने का मामला प्रकाश में आया है। गिरोह के चंगुल से निकली एक किशोरी ने परिजनों से आपबीती सुनाई तो परिजनों ने कैंट थाने में केस दर्ज कराया। शनिवार को मजिस्ट्रेट ने किशोरी का बयान दर्ज किया। किशोरी के मुताबिक एक गिरोह काम कर रहा है जिसने मेरे भाई की हत्या भी कर दी है। घर में झगड़ा होने से वह परेशान थी। वह गांव जाने के लिए ट्रेन का इंतजार कर रही थी तभी उसे खुद को टीटीई बताने वाला जमीर आलम मिला। उसने उत्कर्ष तिवारी व विशाल मौर्य को बुलाया और किशोरी को उसके घर पहुंचाया। जमीर ने किशोरी को भरोसे में लेकर फोन पर बातचीत शुरू कर दी और फिल्म में काम दिलाने के नाम पर उसे घर से भागने के लिए प्रेरित किया।

    स्टेशन पर किशोरी की मुलाकात जमीर से हुई। वहां पहले से मौजूद उत्कर्ष पांच लड़कियों को लेकर आया था। सभी लड़कियां जमीर के साथ मुंबई रवाना हुईं जहां उनको एक होटल में रखा गया। होटल में जमीर अपने दोस्त रिजवान के साथ ठहरा था। दूसरे दिन लड़कियों को तैयार होने के लिए कहा गया। सुबह नास्ते में मिले खाद्य पदार्थ खाने के बाद सभी बेहोश हो गईं। नींद खुली तो वे नग्न अवस्था में मिलीं और शोर मचाने लगीं। तभी एक महिला कमरे में दाखिल हुई और कहा कि सभी की बोली लग गई है। इसके बाद कुछ लोगों ने सभी के साथ दुष्कर्म किया और वीडियो बनाया। जिसे दिखाकर जमीर ब्लैकमेल करने लगा।

    पीड़िता ने बताया कि सुबह नींद खुली तो देखा कि कमरे में मौजूद अन्य लड़कियां गायब हैं। पुलिस से शिकायत करनी चाही तो जमीर ने धमकी दी कि मुंह खोला तो भाई को जान से मार देंगे और ऐसा ही हुआ। मुझे तलाशने के लिए निकले भाई की लाश वरुणा किनारे मिली। भाई की मौत के मामले में पुलिस की संदेहास्पद कार्रवाई को देखते हुए पीड़ित परिवार से जुड़े एक व्यक्ति ने सीएम हेल्पलाइन में शिकायत दर्ज कराई है।

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!