• #Editorial : फिल्मों में गालियां दी जा रही हैं, मनोरंजन के नाम पर गालियों को संस्कृति का नाम दिया जा रहा है

    Pandit Loknath Shastri

    पिछले लेख में हमने आपको बताया था कि वेब सीरीज की मूवी किस तरह से मनोरंजन के नाम पर फूहड़पन परोस रही हैं। आज के समाज में जिस तरह से लोग फिल्मों के जरिए अपनी जीवनशैली को बदल रहे हैं और फिल्मों की तरह ही हाव-भाव, पहनावा और बोलचाल करने की भी कोशिश कर रहे हैं, उसी की देन है कि खुलेआम फिल्मों में सार्वजनिक रूप से गालियां दी जा रही हैं, गालियों को संस्कृति का नाम देते हुए आगे बढ़ाया जा रहा रहा है।

    अब खुलेआम फिल्मों में गालियां दी जाती हैं, जिसे बच्चे चोरी-छिपे इंटरनेट पर देखते हैं, पिछले साल भर में कुछ ऐसी फिल्में आई हैं जिसमें खुलेआम गालियां दी जाती हैं, जिसे छोटे अपने बड़ों से छुपकर देखते हैं।

    वेब सीरीज में कुछ दिनों पहले ही एक फिल्म आई थी जिसे विशेष दो जिलों पर फिल्माया गया था, और गालियों को वहां का तकिया कलाम बताया गया था, यह कहां की समझदारी है कि हम लोग पुराने वक्त में अपने बच्चों को जिन बुरी आदतों से बचाया करते थे, आज उन्हीं को अपनी संस्कृति का नाम दे रहे हैं ?

    और ऐसा हो भी क्यों न ? जब बच्चे अपने बड़ों को गालियां देते हुए और ऐसी फिल्मों को देखते हुए सुनेंगे तो उन्हें भी इस काम को करने में जरा भी शर्मिंदगी महसूस नहीं होगी। निगाह उठा कर देखिए, ऐसा समाज में तेजी से हो रहा है या यूं कहिए अब यह प्रचलन चलन में है।

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *