Breaking Varanasi 

#FightAgainstCorona : इतिहास में दर्ज हुआ 05 अप्रैल, PM Modi की गुजारिश पर Varanasi में जलें असंख्य दीप

शोसल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए लोगों ने अपने घरों के बाहर, बालकनियों में जलाएं दीपक, मोमबत्ती और फ्लैश लाइट्स

वाराणसी। कोरोना के विरुद्ध जंग में पांच अप्रैल 2020 का दिन भारत के इतिहास में दर्ज हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रविवार की रात घड़ी में जैसे ही 9 बजे पूरा देश दीपक, मोमबत्ती और मोबाइल के फ्लैश के रोशनी से जगमगा उठा। प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में लोगों ने शोसल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए एकजुटता का संदेश दिया। रात नौ बजते ही लोगों ने छतों बालकनी और चौखट संग दरवाजों पर रोग नाशक दीप घरों में जलाए।

शहर से लेकर गांव तक, गली से लेकर कॉलोनी के घरों तक दीप जलाए गए। काशी के घर-घर मे दीयों के जगमग ने कोरोना से संघर्ष के विश्व व्यापी अभियान को रोशनी का सम्बल दिया। पीएम के अपील का ऐसा असर दिखा कि महामारी के अंधकार की चुनौती देने के लिए शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में असंख्य दीप जले। इस दौरान लोगों ने शोसल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया और कोरोना के खिलाफ जंग में यह साबित कर दिया कि कोई अकेला नहीं है।

रहा बेसब्री से इंतजार

घड़ी की सूई ने जैसे ही नौ बजने का इशारा किया, वैसे ही लोग अपने-अपने घरों की लाइटें बुझा दी। फिर क्या, युवा, बुजुर्ग, बच्चे और महिलाएं पूरे उत्साह के साथ दीया, मोमबत्ती नहीं तो टार्च और मोबाइल लेकर घरों के दरवाजे और बालकनी की ओर चल पड़े। नौ बजने का इशारा होते ही दीप जले तो ऐसा लगा कि अब कोरोना को कहीं जगह नहीं है। हर किसी ने जब एक-एक दीया जलाया तो उसके अपने देश के महाशक्ति होने का अनुभव हुआ। एकजुुटता के संकल्प ने यह साबित कर दिया कि किसी एक मकसद की लड़ाई हम सब लड़ रहे हैं।


error: Content is protected !!