• संस्कृत भाषा मे बनी पहली फिल्म ‘अहम् ब्रह्मास्मि’ रिलीज

    मूवी देखने के लिए बनारस में संस्कृत प्रेमियों की लगी भीड़
     
    चंद्रशेखर आजाद के जीवनी पर है कहानी

    वाराणसी। संस्कृत भाषा को देव भाषा कहा जाता है । पहली बार संस्कृत भाषा में फिल्माई गई अहम् ब्रह्मास्मि फिल्म रिलीज हुई। 6 सितंबर को भारतीय सिनेमा की जानी-मानी बॉम्बे टॉकीज और महिला निर्मात्री कामिनी दुबे के संयुक्त निर्माण और सैन्य विद्यालय के राष्ट्रवादी फिल्मकार आजाद के द्वारा लिखित अहम् ब्रह्मास्मि का प्रीमियम वाराणसी के एक सिनेमाघर में हुआ। यह पहला मौका है जब बड़े पर्दे पर कोई फिल्म संस्कृत भाषा में प्रदर्शित की गई है।

    पहले दिन दर्शकों की भीड़

    अध्यात्म न सांस्कृतिक नगरी काशी में अहम् ब्रह्मास्मि फिल्म का प्रीमियम शो देखने के लिए सैकड़ों की संख्या में दर्शक पहुंचे। संस्कृत भाषा में फिल्म देखने के लिए उत्साहित दर्शक मानते हैं कि बड़े पर्दे पर संस्कृत भाषा में फिल्म आने से संस्कृत भाषा को भी बढ़ावा मिलेगा। दर्शकों का कहना है कि हमारे देश में संस्कृत भाषा को देवो और ऋषियों की भाषा कहा जाता है, मातृभाषा बड़े पर्दे के जरिए लोगों के बीच पहुंचेगी तो इसके दूरगामी लाभ देखने को मिलेंगे।

    चंद्रशेखर आजाद के जीवन पर बनी है फिल्म

    फिल्म अभिनेताव निर्माता आजाद ने संस्कृत भाषा में पहली बार बनाई गई फिल्म अहम् ब्रह्मास्मि को लेकर बताया कि यह फिल्म राष्ट्रवादी मूवी है, इसे आजादी के दीवाने चंद्रशेखर आजाद के जीवन पर बनाई गई है। इस फिल्म के आने के बाद संस्कृत भाषा को बढ़ावा तो मिलेगा। पूर्वजों की भाषा को एक नई पहचान भी मिलेगी।

    संस्कृत है तो संस्कृति है

    फिल्म निर्माता का मानना है कि हॉलीवुड और बॉलीवुड की तरह आने वाले दिनों में संस्कृत भाषा की फिल्मों को भी पसंद किया जाएगा। इसके साथ ही निर्माता आजाद ने कहा कि संस्कृत के माध्यम से लोगों को भारत को जानने और समझने का मौका मिलेगा। ‘संस्कृत है तो संस्कृति है’ इस उद्देश्य को लेकर यह फिल्म बनाई गई है।

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!