• #Topnews- कैंट रेलवे स्टेशन : मालगाड़ी के रैक में आग लगने से अफरा-तफरी, इनकमिंग पैनल में लगी आग, बिजली आपूर्ति बाधित सहित क्लिक कर पढ़िए बनारस की अब तक की खास खबरें

    वाराणसी। कैंट रेलवे स्टेशन पर रविवार को तड़के मालगाड़ी के रैक में आग लगने से अफरा तफरी मच गई। रेल कर्मचारियों ने प्लेटफार्म पर मौजूद हाइड्रेंट पाइप से पानी फेंककर आग बुझाया। मालगाड़ी धनबाद से कोयला लेकर रोजा जा रही थी। कैंट स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर पांच स्थित गुड्स लेन से गुजरने के दरमियान मालगाड़ी के वैगन पर ओवर हेड इलेक्ट्रिक वायर से चिंगारी गिरी। एक वैगन से धुआं उठने लगा। यह देख दौड़े कर्मचारियों ने प्लेटफार्म के आसपास लगे वाटर हाइड्रेंट पाइप को खोलकर आग बुझाने का प्रयास किया। वक्त रहते ही आग पर काबू पा लिया गया। जांच के बाद मालगाड़ी को वहां से रवाना किया गया।

    इनकमिंग पैनल में लगी आग, बिजली आपूर्ति बाधित

    भदैनी उपकेंद्र के 35/ 11 के.वी के इनकमिंग पैनल में आग लगने से रविवार को बिजली आपूर्ति बाधित रही। इनकमिंग पैनल में आग लगने से लोग पेयजल के लिए तरस गए।

    लगाया गया जांच शिविर

    पंचायत मड़वा (हरहुआ) विकासखंड में मिशन समाज सेवा की ओर से रविवार को निशुल्क जांच शिविर का आयोजन किया गया। जांच शिविर में डॉ. पवन दुबे सहित अन्य डाक्टरों ने लोगों को स्वास्थ्य रहने के प्रति जागरूक किया। आयोजन में मुख्य रूप से डंपी तिवारी, घनश्याम सिंह, रणजीत सिंह, ज्योति प्रकाश, बाला लखंदर, आदित्य दुबे, आनंद पाठक, अजय गोस्वामी, राजन सिंह चंदेल, विक्की मध्यानी, बंटी लालवानी, ज्ञान यादव, प्रकाश सेठ सहित अन्य लोग मौजूद थें।

    रक्तदान शिविर का आयोजन

    सीएम एंग्लो बंगाली टोला इंटर कॉलेज में रविवार को आदर्श हेल्थ इंडिया फाउंडेशन के सहयोग से रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। आयोजन में संस्था के चेयरमैन डॉ. आलोक तिवारी, डायरेक्टर राजेंद्र कुमार पांडेय, फोर्ड हॉस्पिटल के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. मनीष कुमार सिंह, डॉ. श्वेता साही, प्रभात शाही, डॉ. राजीव दीक्षित, वीर बहादुर सिंह, डॉ. एसएस खुराना और गौरिका फाउंडेशन के संचालक मनीष कुमार पांडेय प्रमुख रूप से मौजूद थे। संस्था का लक्ष्य है कि हर तीन माह पर रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाए।

    स्वास्थ्य विभाग की भागदौड़ बेनतीजा, डेंगू के मरीजों की संख्या में इजाफा

    डेंगू पीड़िकों की सूची मेंं 23 नए नाम शामिल हो गए। पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय व बीएचयू सेंटीनल लैब की जांच में क्रमश: 14 व नौ लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव रही। इनमें ज्यादातर बनारस के शहरी क्षेत्रों से हैैं। इससे लोगों की धड़कनें तो बढ़ ही रही हैैं, स्वास्थ्य विभाग की चिंता भी बढ़ती जा रही है। कारण यह कि डेंगू का सीजन समाप्त होने के बाद भी इसके वाहक मच्छर एडीज एजिप्टी (टाइगर) की सक्रियता कम होने के बजाय और भी तेजी पर आ रही है। इस कारण पीड़ितों की संख्या 350 तक पहुंचने की ओर है इसमें तकरीबन 150 नवंबर में ही सामने आए हैैं। दारानगर में मां-बेटी की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग की भागदौड़ भी इस पर बेनतीजा साबित हो रही है।

    तीन रेस्टोरेंटों पर लगाया जुर्माना

    नगर आयुक्त गौरांग राठी ने लंका में अभियान चलाकर तीन रेस्टोरेंटों पर जुर्माना लगाया है। प्रवर्तन दल के साथ उन्होंने रेस्टोरेंटों में पॉलिथीन पाए और अपशिष्टों से खाद बनाने की प्रक्रिया शुरू नहीं करने पर कार्रवाई की है। इनसे बीस हजार रुपये जुर्माना वसूला गया है। साथ ही पांच दुकानों से अतिक्रमण हटाते हुए 2,400 रुपये जुर्माना लगाया है।

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!