• बाबा सांरगनाथ महादेव का किया गया हरियाली व हिमश्रृंगार

    बर्फ की सिल्लियों से बने अरघे में सारंगनाथ व शोभनाथ रहे भक्तों के लिए आर्कषण का केन्द्र
    
    151 लीटर दूध से वैदिक मंत्रों के साथ हुआ रूद्राभिषेक

    वाराणसी। आस्था व तपस्या की तपोभूमि सारनाथ में स्खित बाबा सारंगनाथ महादेव का हरियाली व हिमश्रृंहार पूरे धूम-धाम से किया गया। वहीं दर्शन के लिए दिन भर भक्तों की कतार लगी रही। बर्फ से बने अरघे में सारंगनाथ व शोभनाथ का विशालकाय शिवलिंग के साथ 151 बर्फ की सिल्लियों पर दर्जनों देवी-देवताओं की प्रतिमाएं शिवभक्तों के लिए आकर्षण का केन्द्र रहीं। इस दरमियान 11 बटुक ब्राह्मणों द्धारा सारंगनाथ मन्दिर में 151 लीटर दूध से सस्वर वैदिक मंत्रों के साथ रूद्राभिषक पाठ किया गया। साथ ही साथ 151 कपूर की बत्तियों से बाबा का 21 ब्राह्मणाें द्वारा महा आरती की गई। मंन्दिर परिसर काे सुगंधित फूलों, मालाओं और विद्युत झालरों से सजाया गया था। विगत वर्ष की भाति इस वर्ष भी सुबह 9 बजे बाबा सारंगनाथ मन्दिर में 11 बटुक ब्राह्मणों द्धारा वैदिक मंत्रों के साथ रूद्राभिषेक पाठ से कार्यक्रम की शुरूआत हुई। 151 लीटर दूध से बाबा सारंगनाथ व शोभनाथ का महारूद्राभिषेक किया। पूरे गर्भगृह को रंगबिरंगे बर्फ की सिल्लियों से अद्भूत ढंग से सजाया गया था। बाबा सारंग नाथ को पंचामृत स्नान के बाद भांग का भोग लगाया गया और श्रृंगार उपरांत मंदिर का पट भक्तों के दर्शन पूजा के लिए खोल दिया गया। अपराह्न एक बजे प्रख्यात भजन गायक सुरेन्द्र मिश्र तथा बलिया की भक्ति संगीत के प्रख्यात गायिका इन्दुलता ने भजन की प्रस्तुती दी। श्रृंगार करने वालों में मुख्य रूप से अजय मिश्र, राजेश जायसवाल, कौशल पाण्डेय, नितिश पाण्डेय, मोनू महराज, इन्द्रमणि पाण्डेय, प्रदीप पाण्डेय, विजय राय, राजेश पाल, प्रदीप मिश्रा, विजय श्रीवास्तव, चुनमुन पाण्डेय, महेन्द्र पाल पिण्टु, छेदी बाबा सहित सैकडों लोग उपस्थित रहे।

    Print Friendly, PDF & Email

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!