Breaking Crime Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

28 तंबाकू विक्रेताओं पर कार्रवाई : पुलिस, प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की मुहिम, DM और पुलिस आयुक्त की चेतावनी- ‘कोटपा-2003’ का करें पालन, जानिए क्या कहता है नियम

Varanasi : जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा और पुलिस आयुक्त सतीश गणेश के निर्देशन में पुलिस, प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने नगर में तंबाकू उत्पाद विक्रेताओं पर कार्रवाई करते हुये चेतावनी दी है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस और नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत तीन दिनी अभियान चलाकर वाराणसी कमिश्नरेट के काशी और वरुणा जोन में लगभग 28 दुकानों पर टीम ने कार्यवाई की। इसके साथ ही चालान कर चेतावनी भी दी। कहा, भविष्य में भी इसी तरह का निरीक्षण अभियान चलता रहेगा।

पुलिस-प्रशासन की टीम से सब इंस्पेक्टर आशिक अली, उनके सहयोगी, स्वास्थ्य विभाग की टीम से जिला तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ के जिला सलाहकार डॉ. सौरभ प्रताप सिंह, साइकोलोजिस्ट अजय श्रीवास्तव और सामाजिक कार्यकर्ता संगीता सिंह ने बीड़ी, सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद विक्रेताओं के यहां निरीक्षण किया। टीम ने पांडेयपुर, शिवपुर बाईपास, जेपी मेहता से लेकर केंद्रीय कारागार, नदेसर, सिगरा आदि क्षेत्रों पर निरीक्षण किया।

इस दौरान कई विक्रेता पान मसाला और तंबाकू को दुकान के बाहर टांगकर बेचते नजर आए। इसके साथ ही सिगरेट के कुछ उत्पादों में चित्र सहित वैधानिक चेतावनी प्रकाशित न होने के बावजूद बेचते नजर आए, जो सिगरेट और अन्य तंबाकू अधिनियम (कोटपा) 2003 का पूरी तरह से उल्लंघन करती हैं। इसी तरह के कुछ अन्य अधिनियमों का उल्लंघन करते हुये निरीक्षण टीम ने 28 दुकानों का चालान किया और चेतावनी भी दी। इन तीन दिनों में लगभग 4500 रुपये का चालान एकत्रित किया गया।

जिलाधिकारी और पुलिस आयुक्त ने नगर सहित ग्रामीण के सभी तंबाकू उत्पाद विक्रेताओं को चेतावनी दी कि उक्त के संबंध में यदि कोई भी विक्रेता कोटपा 2003 के नियमों का उल्लंघन कर पाया गया तो उसके खिलाफ अधिनियम की सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी। वहीं, पूर्व में जिन दुकानों का चालान कर चेतावनी दी गई है, इसके बाद भी वह नियमों का अनुपालन नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करते हुये दुकान भी जब्त कर ली जाएगी। अधिनियम के तहत जुर्माना भी वसूला जाएगा।

नियम क्या कहता है

• धारा 4- सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान प्रतिबंधित है। उल्लंघन पर 200 रुपये तक का जुर्माना हो सकता है। होटल, रेस्तरां, सिनेमा हॉल, मॉल आदि के मालिकों को 60 सेमी गुणे 30 सेमी बोर्ड पर धूम्रपान निषेध बोर्ड प्रदर्शित करना चाहिए।
• धारा 5- तंबाकू उत्पादों के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष विज्ञापन पर रोक। तंबाकू उत्पाद बेचने वाली दुकानों पर 60 सेमी गुणे 45 सेमी का बोर्ड प्रदर्शित करना चाहिए जिसमें तंबाकू से कैंसर होता है, का चित्र हो। उल्लंघन करने पर 1000 रुपये से लेकर 5000 रुपये तक का जुर्माना या एक से पांच साल की कैद हो सकती है।
• धारा 6(अ)- 18 वर्ष से कम आयु के अवयस्क को तंबाकू उत्पादों की बिक्री पर प्रतिबंध। धारा 6(ब)- शिक्षा संस्थान के 100 गज के दायरे में तंबाकू उत्पादों का सेवन करना दंडनीय है। दोनों धाराओं का उल्लंघन करने पर 200 रुपये तक का जुर्माना हो सकता है।
• धारा 7 के अर्न्तगत तंबाकू उत्पादों पर चित्रमय स्वास्थ्य चेतावनी प्रदर्शित होनी चाहिए। उल्लंघन पर 2 से 5 साल का कारावास व 1000 से 10,000 रुपये का जुर्माना हो सकता है।

You cannot copy content of this page