Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

छलावा का आरोप : मजदूर संघ ने बोनस का किया विरोध, कार्यकारी अध्यक्ष बोले- प्रतिदिन कर्मचारियों का अधिकार समाप्त हो रहा है

Varanasi : डीएलडब्ल्यू मजदूर संघ ने बीएलडब्ल्यू परिसर में बैठक कर रेलवे कर्मचारियों को मिले ₹17951 बोनस राशि का विरोध किया। इसको लेकर सरकार के आदेश की आलोचना की। कहा, वर्तमान समय में न्यूनतम वेतन ₹18000 है जबकि बोनस की घोषणा न्यूनतम ₹7000 पर की गई है।

बैठक में संघ के महामंत्री कृष्ण मोहन तिवारी ने कहा कि न्यूनतम वेतन ₹18000 पर बोनस की घोषणा होनी चाहिए थी लेकिन सरकार ने कर्मचारियों के साथ छलावा कर ₹7000 न्यूनतम वेतन पर बोनस घोषित किया है। डीएलडब्ल्यू मजदूर संघ के कार्यकारी अध्यक्ष राधावल्लभ त्रिपाठी ने कहा कि एआईआरएफ तथा एनएफआईआर दोनों मान्यता प्राप्त संगठनों के नकारात्मक सोच के कारण सरकार मनमानी कर रही है जो कर्मचारी हित में नहीं है। दिन प्रतिदिन कर्मचारियों का अधिकार समाप्त हो रहा है।

दोनों मान्यता प्राप्त संगठनों का केंद्र सरकार से मिली भगत के कारण कर्मचारियों के अधिकार छीने जा रहे हैं। भारतीय मजदूर संघ और भारतीय रेलवे मजदूर संघ से संबंध डीएलडब्ल्यू मजदूर संघ केंद्र सरकार से मांग करती है कि बोनस की राशि पर पुनर्विचार कर ₹18000 का निर्धारण कर न्यूनतम बेसिक पर भुगतान किया जाए।

बैठक में नवीन कुमार सिन्हा, केसी पांडेय, विनोद कुमार सिंह, देवता नंद तिवारी, अश्वनी यादव, शशि भूषण तिवारी, राम सिंह, दिपेश कुमार पांडेय, अरविंद तिवारी, जयप्रकाश, राजेंद्र सिंह बिष्ट, पूरणमल्ल, श्याम मोहन, अच्छेलाल, अमित श्रीवास्तव, आशुतोष श्रीवास्तव, गौरव श्रीवास्तव, देवेंद्र कुमार, पवन कुमार राय, मुकेश पांडेय, रंग बहादुर यादव, सुकेश सिन्हा, हरीश निगम आदि लोग मौजूद थे।

You cannot copy content of this page