Varanasi 

सात दिसंबर को मनाया जाएगा सशस्त्र सेना झंडा दिवस : जिला सैनिक कल्याण और पुनर्वास अधिकारी ने की ये गुजारिश

Varanasi : जिला सैनिक कल्याण और पुनर्वास अधिकारी ग्रुप कैप्टन अशोक पाण्डेय (अप्रा)ने बताया कि 1949 से 7 दिसम्बर को पूरे देश में सशस्त्र सेना झंडा दिवस के रूप में शहीदों और वर्दी धारियों, जिन्होंने देश के सम्मान की रक्षा के लिए हमारी सीमाओं पर बहादुरी से लड़ाई लड़ी, का सम्मान करने के लिए मनाया जाता है।

झंडा दिवस हमारे विकलांग साथियों, विधवाओं और देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वालों के आश्रितों की देखभाल करने के हमारे दायित्व को दर्शाता है। इस दिन थल सेना, नौसेना और वायु सेना के जवानों द्वारा दी गई सेवाओं को याद किया जाता है।

यह हमारे देश के प्रत्येक नागरिक का सामूहिक कर्तव्य है कि वह हमारे वीर शहीदों और विकलांग सैनिकों के आश्रितों के पुनर्वास और कल्याण को सुनिश्चित करें।

झंडा दिवस हमें सशस्त्र सेना झंडा दिवस कोष में अधिक से अधिक उदारता से योगदान करने का अवसर देता है। सशस्त्र सेना झण्डा दिवस का आयोजन कर हम देश के परमवीर, बलिदानी, त्यागी एवं शौर्य का परिचय देते हुए शहीद सैनिकों, जिन्होंने राष्ट्र को अपने त्याग और बलिदान से गौरवान्वित किया हैं, उन वीर जवानों के प्रति हम कृतज्ञता व्यक्त करते है और अपने जवानों तथा उनके आश्रितों की देख-भाल और समर्थन के हेतु इस सुअवसर पर नागरिकों से यथा शक्ति धन संग्रह का पुण्य कार्य करते हैं।

ग्रुप कैप्टन अशोक पाण्डेय, वायु सेना मेडल (वीरता) (अप्रा) जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास अधिकारी वाराणसी का जनपद के समस्त अधिकारियों-कर्मचारियों तथा नागरिकों से अनुरोध है कि इस पुनीत दिवस को उत्साह के साथ मनायें और यथाशक्ति योगदान करें।

संग्रहित धनराशि का चेक-बैक ड्राफ्ट जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास अधिकारी वाराणसी के नाम से कार्यालय जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास कार्यालय वाराणसी में भेजा जाये। अधिक जानकारी के लिए कार्यालय के सीयूजी नं-7839553277 एवं दूरभाष संख्या 0542-2508254 पर सम्पर्क करने की कृपा करें।

You cannot copy content of this page