Varanasi 

KVK की तरफ से जागरूकता अभियान : फसल अवशेष प्रबंधन पर जानकारी दी गई

Abhishek Tripathi

Varanasi : आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कुमारगंज, अयोध्या द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र, कल्लीपुर द्वारा इन सीटू फसल अवशेष प्रबंधन परियोजना के अंतर्गत अराजीलाइन विकासखंड के कल्लीपुर गांव व सेवापुरी विकासखंड के बनकट गांव में ग्राम स्तरीय जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस कार्यक्रम में किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन की तकनीकी जानकारी के साथ साथ फसल जलाने से होने वाले नुक़सान पर विस्तार से जानकारी दी गयी।

परियोजना के मुख्य अन्वेषक व के.वी.के के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. नरेंद्र रघुवंशी ने फसल अवशेषों के महत्व को बताया तथा फसल कटाई के उपरांत फसल अवशेषों को विभिन्न तकनीकी से मिट्टी में मिलाने हेतु सुझाव दिया।वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. नवीन सिंह ने फसल अवशेषों का आच्छादन के रूप में प्रयोग करने की सलाह दी।

लाभदायक सूक्ष्मजीवों का प्रयोग करके भी फसलनअवशेषों को सडा गला कर गुणवत्ता युक्त जैविक खाद तैयार की जा सकती है। कार्यक्रम में उपस्थित वैज्ञानिक व सह अन्वेषक डॉक्टर अमितेश ने कृषि में उपयोग होने वाले विभिन्न मशीनो जैसे सूपर सीडर, हैपी सीडर, मलचर इत्यादि पर विस्तार से प्रकाश डाला।

प्रसार वैज्ञानिक डॉक्टर राहुल सिंह व बीज प्रौद्योगिक वैज्ञानिक डॉक्टर श्री प्रकाश सिंह ने क्रमशः वेस्ट डीकम्पोज़र और आच्छादन पर विस्तार से चर्चा किया। गृह वैज्ञानिक डॉक्टर प्रतीक्षा सिंह ने फ़सल अवशेष प्रबंधन में महिलाओं की भागीदारी पर बात रखी। इस अवसर पर कल्लीपुर के ग्राम प्रधान, बनकट के ग्राम प्रधान सहित कैलाश नारायण सिंह व कमलेश सिंह सहित कुल 200 से अधिक किसान उपस्थित रहे।

You cannot copy content of this page