Education Varanasi पूर्वांचल 

बीएचयू के छात्रों का धरना खत्म : पहुंचे परीक्षा हॉल, बोले छात्र- दो महीने के क्लास की पढ़ाई में कैसे दें परीक्षा

Varanasi : सेमेस्टर परीक्षा की तिथि को आगे बढ़ाने और ऑनलाइन एग्जाम देने की मांग पर चार दिन से धरने पर बैठे छात्र ने धरना समाप्त कर दिया। छात्र धरना समाप्त कर परीक्षा में शामिल हुए। छात्रों के काफी विरोधों के बाद मंगलवार की देर रात विश्वविद्यालय प्रशासन ने छूट देते हुए कहा कि 21 सितंबर की परीक्षा में जो छात्र शामिल नहीं होना चाहते न हों। उनकी परीक्षा बाद में ली जाएगी। इसके बाद सेंट्रल ऑफिस में बीते चार दिन से चल रहा धरना कल रात समाप्त हो गया है। कुछ छात्रों का कहना है कि आंदोलन अभी जारी है।

हमें सभी परीक्षा के हर पेपर की तारीख आगे बढ़वानी है। हालांकि, प्रॉक्टोरियल बोर्ड के सुरक्षाधिकारियों ने आज सुबह बताया कि ज्यादातर छात्र एग्जाम हॉल में हैं। मंगलवार की रात विरोध करते हुए छात्रों ने बीएचयू के मेन गेट को बंद करने की धमकी भी दे डाली थी। छात्रों और सुरक्षाकर्मियों ने बताया कि धरने के दौरान बारिश हो रही थी, उसी में एक छात्र ने पास की खड़ी बाइक से पेट्रोल निकालकर आत्मदाह करने की कोशिश की, तो वहीं 3 छात्रों की तबियत बिगड़ने से एंबुलेंस से ले जाकर इमरजेंसी में भर्ती करवाना पड़ा।

बाद में इस मामले को छुपाने की कोशिश की गई। वाराणसी पुलिस और प्रॉक्टोरियल बोर्ड के सैकड़ों सुरक्षाकर्मी रात में धरनास्थल पर तैनात थे। ऑनलाइन एग्जाम की मांग पर बैठे छात्रों को कल रात विश्वविद्यालय प्रशासन ने एक बीच का रास्ता सुझाया। छात्रों को आश्वासन देते हुए कहा कि जो भी छात्र फिजिकल मोड में परीक्षा देने चाहते हों, वे दे दें। जिनकी तैयारी नहीं है, उनके लिए बाद में अलग से परीक्षा कराई जाएगी।

बोले छात्र डीन ने किया अनदेखा

धरनारत 4 सौ छात्रों में सबसे ज्यादा संख्या फैकल्टी ऑफ आर्ट और सोशल साइंस के छात्रों की थी। उनका कहना है कि इस तीसरे सेमेस्टर दो महीने भी ढंग से क्लासेज नहीं चलीं। विभाग स्तर पर इसका विरोध हुआ जो विभागाध्यक्ष और संकाय प्रमुख ने अनदेखा किया। उसके बाद वे लोग डीन ऑफ स्टूडेंट ऑफिस पर धरना दिए। वहां जब कोई सुनवाई नहीं हुई, तो फिर सेंट्रल ऑफिस बंदकर यहां पर बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन किया जाने लगा। छात्रों ने कहा कि उनका भविष्य चौपट हो जाएगा। एग्जाम में लिखेंगे क्या, जब पढ़ाई ही ढंग से नहीं हो पाई है। यदि एग्जाम ऑनलाइन होता तो भी ठीक था।

You cannot copy content of this page