Breaking Varanasi उत्तर प्रदेश 

Breaking : मरीजों के विषय में सोचें, विरोध जता रहे लोगों ने कहा होती है तकलीफ

बीएचयू प्रशासन से सीरगेट खोलने की मांग

Varanasi : एंबुलेंस के लिए रास्ता न मिलने पर लोग बिफर पड़े। सीरगेट खोलने की मांग की गई। हर बार की तरह इस बार भी विरोध जता रहे लोगों को बीएचयू प्रशासन की ओर से आश्वासन मिला है कि समस्या का निस्तारण किया जाएगा। लोगों का कहना था कि उन्हें सर सुंदरलाल अस्पताल में मरीजों को ले जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

दरअसल, मेन गेट बंद होने की वजह से खफा लोग रविवार को सुबह सीरगेट पर पहुंचकर बीएचयू प्रशासन से दरवाजा खोलने की मांग करने लगे। पता चलने पर बीएचयू के अधिकारी मौके पर पहुंचे। लोगों ने अपनी समस्याओं से उन्हें रूबरू कराया। लिखित शिकायती पत्र दिया। लोगों को आश्वासन मिला कि समस्या का निस्तारण किया जाएगा।

विरोध जता रहे सपा से जुड़े सिरगोवर्धनपुर निवासी राजेश यादव नत्थू ने बताया कि सीरगेट बंद होने से सर सुंदरलाल अस्पताल में एंबुलेंस नहीं जा पाती है। मरीजों और उनके तीमारदारों को परेशानी होती है।

इन जगहों के लोग परेशान

गेट बंद होने से सिरगोवर्धनपुर, रमना, डाफी, नैपुरा, नरोत्तमपुर, टिकरी, मुड़ादेव आदि-इत्यादि गांव के लोगों को गंभीर मरीज को बीएचयू अस्पताल लेकर पहुंचने में कई किलोमीटर का चक्कर लगाना पड़ता है। विरोध कर रहे लोगों की मांग थी कि सीरगेट पहले की तरह सुबह पांच बजे से रात 10 बजे तक खोला जाए।

पता चलने पर पहुंची पुलिस

लोगों के विरोध जताने की जानकारी मिलने पर लंका पुलिस के साथ बीएचयू के अधिकारी पहुंचे। विरोध जता रहे लोगों को आश्वासन दिया गया कि उनकी बात प्रमुखता से बीएचयू से जुड़े शीर्ष अफसरों के सामने रखी जाएगी। विरोध जताने वालों में जय प्रकाश उर्फ सबलू, रविदास, संदीप सिंह, विवेक यादव, संतोष यादव, अमन यादव, विजय यादव, राकेश यादव आदि लोग मौजूद थें।

पहले भी हुआ है विरोध

सीरगेट खोलने को लेकर इससे पहले भी लोग विरोध जता चुके हैं। कई बार बीएचयू प्रशासन को अवगत कराया जा चुका है कि एंबुलेंस से मरीजों को लाने में तीमारदारों को काफी तकलीफ होती है। हर बार गेट खोलने का आश्वासन लोगों को मिलता रहा है।

error: Content is protected !!