Varanasi धर्म-कर्म मेहमान लेखक 

Guest writer : धर्मग्रंथों के हिसाबन रविवार को वट सावित्री पूजन, पढें प्रमाणित जानकारी

Varanasi : काशी खंडोक्त कंचन वट सावित्री का संयुक्त मंदिर दशाश्वमेध क्षेत्र के मीरघाट में धर्मकूप मुहल्ले में स्थापित है। यहां पूजन करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। धर्मग्रंथों और हृषिकेश पञ्चाङ्ग के अनुसार वट सावित्री पूजन ज्येष्ठ माह अमावस्या को मनाई जाती है। इस बार वट सावित्री व्रत और पूजन पर संशय का वातावरण बना है, लेकिन धर्मग्रंथों के निर्णयानुसार यह पूजन इस बार दिनांक २९ मई (रविवार) को ही मनाए जाने का निर्णय निर्देश दिया गया है। इसलिए २९ मई को ही व्रत परायण पूजन करें।…

और पढ़ें।
Breaking Varanasi धर्म-कर्म पूर्वांचल 

बनारस में मानस मर्मज्ञ राजन जी महाराज : बोले- सहज रहना सीख लीजिए सभी समस्याएं खुद खत्म हो जाएंगी, जीवन में विश्वास और श्रद्धा का मिलन हुए बिना भक्ति संभव नहीं

Varanasi : बड़ागांव के कुड़ी में एक शिक्षण संस्थान के प्रांगण में चल रहे संगीतमय श्रीराम कथा के तीसरे दिन श्रीराम जन्मोत्सव प्रसंग पर कथा करते हुए मानस मर्मज्ञ राजन जी महाराज ने बताया कि जीवन में बिना विश्वास और श्रद्धा का मिलन हुए भक्ति की धारा कदापि प्रवाहित नहीं हो सकती। कथा को सुनने और प्रभु की भक्ति करने का वही अधिकारी है जिसे सत्संग से प्रेम और प्रभु के प्रति मन में अटूट श्रद्धा-विश्वास हो। श्रीराम कथा के सपत्नीक मुख्य यजमान अरविंद मिश्र और अजय दूबे द्वारा व्यासपीठ,…

और पढ़ें।
Breaking Varanasi ऑन द स्पॉट धर्म-कर्म पूर्वांचल 

Varanasi Gyanvapi Case : तीन दिन तक चल सकता है खसरा नंबर 9130 का सर्वे, 10 मई को है अगली सुनवाई

Varanasi : पांच महिलाओं की याचिका पर सुनवाई करते हुए 30 अप्रैल को हाईकोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर और श्रृंगार गौरी के सर्वे और वीडियोग्राफी के आदेश दिए थे। कोर्ट कमिश्नर नियुक्त किया था जो 10 मई को होने वाली अगली सुनवाई में सर्वे की रिपोर्ट पेश करेगा। पांचो महिलाओं के वाद के अधिवक्ता दिल्ली के शिवम गौड़ के मुताबिक, शुक्रवार शुरू हुआ खसरा नंबर 9130 का सर्वे तीन दिनों में पूरा होने की संभावना है। शिवम गौड़ ने बताया कि खसरा नंबर 9130 के सर्वे के हाईकोर्ट ने आदेश…

और पढ़ें।
Breaking Varanasi ऑन द स्पॉट धर्म-कर्म पूर्वांचल 

Varanasi Gyanvapi Case : मुकम्मल सुरक्षा इंतजाम के बीच शुरू हुआ सर्वे, 11 तस्वीरों में देखें मुस्तैदी

Varanasi : ज्ञानवापी मस्जिद परिसर और श्रृंगार गौरी के सर्वे और वीडियोग्राफी अदालत से नियुक्त कोर्ट कमिश्नर पहुंच चुके हैं। अदालत से नियुक्त वरिष्ठ अधिवक्ता अजय कुमार मिश्र वादी और प्रतिवादी पक्ष के कुल 28 लोगों के साथ निरीक्षण करेंगे। इस दौरान वीडियोग्राफी भी की जायेगी। थोड़ी देर पहले सभी पक्ष के सदस्य चौक थाने पहुंचे। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सर्वे शुरू हुआ जो शाम 6 बजे तक जारी रहेगा। इस वाद को देख रहे दिल्ली के अधिवक्ता के मुताबिक, यह सर्वे खसरा नंबर 9130 के सम्पूर्ण भूभाग का…

और पढ़ें।
Breaking Varanasi धर्म-कर्म पूर्वांचल 

महादेव के रूप में काशी के कोतवाल ने दर्शन दिया : बाबा काल भैरव का वार्षिक श्रृंगार किया गया, भक्तों की लगी भीड़, लगे हर-हर महादेव के जयकारे

Varanasi : काशी के कोतवाल श्री 1008 बाबा कालभैरव का वार्षिक श्रृंगार महोत्सव और भंडारा गुरुवार को आयोजित किया गया। बाबा की महादेव के रूप में नयनाभिराम झांकी सजायी गयी। महोत्सव का शुभारंभ सुबह मंगला आरती से हुआ। महंत पंडित सुमित उपाध्याय ने बाबा को पंचमेवा स्नान और नवीन वस्त्र धारण कराकर मनमोहक झांकी सजाई। मंदिर का कपाट भक्तों के लिये खोला दिया गया। सुबह से ही भक्तों की कतार मंदिर में दर्शन के लिए लगी थी। कालभैरव चौराहे पर दोपहर 12 बजे से भंडारे का आयोजन भी किया गया।…

और पढ़ें।
Varanasi धर्म-कर्म पूर्वांचल 

पौराणिक कुंड में नहाने भर से सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है : पूजा-अर्चना के बाद श्रद्धालुओं ने मणिकर्णिका चक्रपुष्करिणी कुंड में डुबकी लगाई

Varanasi : अक्षय तृतीया पर साल में एक बार माता मणिकर्णिका की मूर्ती के दर्शन मणिकर्णिका कुंड पर होते हैं। अक्षय तृतीया की रात माता के विग्रह के कुंड पर पहुंचने के बाद से ही पूजा-अर्चना का सिलसिला शुरू हो गया था। अक्षय तृतीया के दूसरे दिन मणिकर्णिका कुंड में स्नान करने के लिए आस्थावानों का रेला उमड़ा। विधि-विधान से माता की पूजा-अर्चना के बाद श्रद्धालुओं ने मणिकर्णिका चक्रपुष्करिणी कुंड में डुबकी लगाई। माता से सभी कष्ट हरने की प्रार्थना की। इस कुंड में आज के दिन स्नान करने से…

और पढ़ें।
Varanasi धर्म-कर्म पूर्वांचल 

अक्षय तृतीया 2022 : लोगों ने गंगा में लगाई पुण्य की डुबकी, मंदिरों में दर्शन-पूजन, यथाशक्ति गहने खरीदे

Varanasi : अक्षय तृतीया पर मंगलवार की सुबह भगवान शिव की नगरी काशी में धार्मिक आयोजनों और अनुष्‍ठानों का दौर सूर्योदय के साथ शुरू हुआ। बाबा दरबार से लगायत गंगा घाट तक आस्‍था की कतार दिन चढ़ने तक बढ़ने लगी। सुबह लोगों ने गंगा में पुण्‍य की डुबकी लगाई। लोगों ने हवन-पूजन के साथ गंगा में उगते सूर्य को अर्घ्‍य दिया। स्‍नान के बाद दान की परंपराओं का निर्वहन किया। गंगा में स्‍नान के बाद बाबा दरबार पहुंचकर हाजिरी लगाई। बाबा दरबार से लेकर विभिन्‍न मंदिरों में अक्षय पुण्‍य की…

और पढ़ें।
Breaking Uncategorised धर्म-कर्म पूर्वांचल 

अघोराचार्य बाबा कीनाराम अघोर शोध और सेवा संस्थान : उत्साह के साथ मनाई गई अघोराचार्य बाबा सिद्धार्थ गौतम रामजी की जयंती

Varanasi : ‘अघोराचार्य बाबा कीनाराम अघोर शोध एवं सेवा संस्थान, क्रीं कुण्ड’ शिवाला वाराणसी के व्यवस्थापक अरुण सिंह की अध्यक्षता में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 01 मई 2022 (रविवार) को सम्पूर्ण संसार में अघोर-परंपरा के आचार्य, पीठाधीश्वर अघोराचार्य बाबा सिद्धार्थ गौतम रामजी की जयंती धूमधाम और उत्साह के साथ मनाई गई। गौरतलब है, विगत दो वर्षों से वैश्विक महामारी कोरोना के चलते बाबा सिद्धार्थ गौतम रामजी की जयंती सभी अनुयायियों द्वारा आभासी माध्यम से अपने-अपने घरों में ही मनाई जा रही थी। अरुण सिंह के मुताबिक, परिस्थितियों के…

और पढ़ें।
धर्म-कर्म 

आदिशक्ति मां महामाई मंदिर : मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा से पूर्व कराया पुष्पाधिवास, बुधवार को गर्भगृह में स्थापित किया जाएगा

Jaunpur : सवंशा गांव में करीब ढाई वर्षों से निर्माणाधीन आदिशक्ति मां महामाई मंदिर का कार्य पूर्ण होने के बाद मन्दिर में मुर्तियों के प्राण-प्रतिष्ठा के महापुजन कार्यक्रम में चल रहे मूर्ति स्थापना समारोह के तीसरे दिन सोमवार को फलाधिवास, पुष्पाधिवास, वस्त्राधिवास आदि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इससे पूर्व रविवार को द्वितीय दिवस पर यजमान गणेश चंद्रशेखर उपाध्याय और उनकी धर्मपत्नी वैशाली उपाध्याय द्वारा जलाधिवास, अन्नाधिवास, मिष्ठाधिवास पूजन पूर्ण विधि विधान से हुआ था। मंगलवार को नगर भ्रमण और शोभा यात्रा के साथ गांव की परिक्रमा के बाद बुधवार…

और पढ़ें।
धर्म-कर्म 

कलश यात्रा के साथ प्राण प्रतिष्ठा अर्चन : मंत्रोच्चारण के बीच शुरू हुआ पूजन, लगे माता के जयकारे

Jaunpur : सवंशा गांव में करीब ढाई वर्षों से निर्माणाधीन आदिशक्ति मां महामाई मंदिर का कार्य पूर्ण होने के बाद मंदिर में मुर्तियों के प्राण-प्रतिष्ठा के महापुजन का कार्यक्रम शनिवार को प्रारम्भ हुआ। सुबह करीब 09 बजे से ही नवनिर्मित मंदिर पर सैकड़ो की संख्या में श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगना शुरू हो गया था। अयोध्या के विद्वान आचार्य जगदम्बा प्रसाद मिश्र ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूजन-अर्चन प्रारम्भ कराया। महिलाओं ने अपने सिर पर मिट्टी का कलश रखकर माता का जयकारा लगाते हुए नदी का जल लेने के लिए कलश…

और पढ़ें।
You cannot copy content of this page