बड़ी बोल 

Guest Writer : गाड़ी में है तेल भरवाना, कहके बेटा नोच रहा है, सबक है महामारी का जीवन, अस्त्र-त्रस्त हुआ जन जीवन

Gust Writer: Oil is loaded in the car, saying son is scratching, lesson is life of epidemic, life-stricken public

और पढ़ें।
बड़ी बोल 

Gust writer : कुछ प्रेमी तस्वीर हो गये, रोहित सरदाना नजीर हो गये, भागम-भागी, दौड़म-दौड़, अरे इनको कौन गया है छोड़

Gust writer: Some lovers have been photographed, Rohit Sardana has become Nazir, Bhagam-Bhagi, Rasaam-Rasa

और पढ़ें।
बड़ी बोल 

Guest writer : अप्राकृतिक जीवन ये कैसा, जी रहा है आदमी, कंधो पे सांसे और लाशें, ढो रहा है आदमी

Banke Banarasi Pankaj अप्राकृतिक जीवन ये कैसा, जी रहा है आदमी, कंधो पे सांसे और लाशें, ढो रहा है आदमी। क्यों मस्त लगता है वो भोजन, जो बना हो बेबस मारकर, खुश है उस मैदान में, जो बना है जंगल काटकर, सोचलो पहले सभी से जीनेको क्या चाहिए, भोजन, पानी या फिर सांसे समझ गया है आदमी। इत्तीफाकन जैसे प्रकृति ने, मैनेजमेंट हो वापस ले लिया, मानकर निज संतती, क्या नहीं तुमको दिया, जो भूलकर भी सीखने को तटस्थ हैं प्रत्येक क्षण, कम से कम वो ही धरा को संवारने…

और पढ़ें।
एडिटोरियल बड़ी बोल 

#बतकहीबाज : खैरियत से हूं मैं मेरे शहर में, तुम अपने शहर में अपनी हिफाजत करना, किसी का हाथ छूना नहीं और किसी का साथ छोड़ना नहीं

Batheekbaaz I am well in my city you protect your city do not touch anyones hand and do not leave anyones side

और पढ़ें।
बड़ी बोल 

धीरे-धीरे बढ़ रहा हूं, सुबह की सूरज के भांति, आसमां में चढ़ रहा हूं, जा रही है काली रैना, तब प्यार करता था, अब प्यार पाऊंगा…

I am growing slowly, like the morning sun, I am climbing in the sky, I am going to Kali Raina, then loved, now I will find love…

और पढ़ें।
You cannot copy content of this page