Breaking Politics Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

Varanasi में बोले CM Yogi- विश्व भारत की ओर उम्मीद भरी निगाहों से देख रहा है, काशी आज देश का नेतृत्व कर रही है

Varanasi : आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में पूरा विश्व भारत की ओर उम्मीद भरी निगाहों से देख रहा है। काशी आज पूरे देश का नेतृत्व कर रही है, यहां के लोगो ने यहां से सांसद नहीं, प्रधानमंत्री चुन कर भेजा है। ये बातें सीएम योगी ने कहीं।

दरअसल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने दो दिनी वाराणसी दौरे के दौरान शुक्रवार को डीएवी पीजी कॉलेज में आजादी के अमृत महोत्सव पर समर्पित चौरी-चौरा शताब्दी वर्ष के अवसर पर आयोजित चौरी- चौरा : अपराजेय समर के नाट्य दृश्यांकन के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में लोगों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि काशी जो भी आया कुछ लेकर ही लौटा है, यहां से कोई खाली हाथ नहीं जाता है। उन्होंने कहा कि भारतवर्ष में जनभावना का सम्मान सदैव सर्वोपरि रहा है, चौरी-चौरा की घटना उसी जनभावना का परिचायक है। चौरी-चौरा की लड़ाई सामान्य मानव, ग्रामीण समाज ने स्वयं लड़ी। यह अत्यंत गौरव का विषय है कि चौरी-चौरा पर पहला नाट्य मंचन उस जगह हो रहा है, जिसका संबंध मदन मोहन मालवीय जी से है।

मालवीय जी ने ही इस घटना का मुकदमा लड़ा और न जाने कितनो को फांसी के फंदे पर झूलने से बचाया। आज उन्हीं के काशी हिंदू विश्वविद्यालय के अंग डीएवी पीजी कॉलेज ने इसका मंचन कराया, जो अभिनन्दन के पात्र है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि भारत अब आत्मनिर्भर भारत की ओर तेजी से बढ़ रहा है। काशी में बना काशी विश्वनाथ धाम अर्थव्यवस्था के लिए बड़ा सहयोग किया है।

धाम से समाज को कितना लाभ हुआ, समाज के अंतिम स्तर तक कार्य करने वाले के जीवन स्तर में कोई भी बदलाव आया कि नही यह जानना और समाज को उससे अवगत कराने का शोध कार्य भी डीएवी पीजी कॉलेज कर रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी 25 वर्ष भारत के लिए अमृत वर्ष के रूप में होंगे, जिसमे एक नए भारत का उत्थान पूरी दुनिया देखेगी।

स्वागत भाषण देते हुए प्राचार्य डॉ. सत्यदेव सिंह ने कहा कि अंग्रेजी हुकूमत ने भारतीयों को बड़ी त्रासदियाँ दी है, उसकी एक बानगी मात्र है चौरी-चौरा की घटना, हम उसका स्मरण कर आजादी के सभी नायकों को नमन कर रहे है। उन्होंने यह भी कहा कि हमारा महाविद्यालय प्रधानमंत्री के विजन डिजिटल लर्निग पर मजबूती से काम कर रहे है।

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के स्टांप और न्यायालय पंजीयन शुल्क राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार रवींद्र जायसवाल, आयुष राज्य मंत्री वतंत्र प्रभार दयाशंकर मिश्र दयालु, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा सहित अन्य लोग मौजूद थे।

You cannot copy content of this page