Breaking Crime Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

ट्वीट कर की शिकायत : विश्वनाथ मंदि‍र से उड़ीसा के दर्शनार्थी की सोने की चेन गायब, मदद की आस में खूब भटके, शिकायत मिलने पर पुलिस ने दर्ज किया FIR

Varanasi : श्रीकाशी विश्वनाथ गर्भगृह के बाहर से दर्शन कर रही उड़ीसा की महि‍ला दर्शनार्थी के सोने की चेन चोरी हो जाने का मामला सामने आया है। महिला के पति ने चौक थाने में शि‍कायत की है। SHO चौक शिवाकांत मिश्रा का कहना है कि मुकदमा कायम कर जांच की जा रही है। दर्शनार्थी तहरीर देने के बाद वापस उड़ीसा रवाना हो गये हैं। पुलिस सीसीटीवी फुटेज चेक रही है।

महि‍ला दर्शनार्थी के बेटे अनि‍मेष पात्रो ने ट्वि‍टर पर पीएम मोदी, सीएम योगी, डीएम वाराणसी और वाराणसी कमि‍श्‍नरेट पुलि‍स को टैग करते हुए मदद की गुहार लगायी है। अनि‍मेष के मुताबिक, उनके 62 वर्षीय पि‍ता और 52 वर्षीय मां श्रीकाशी वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र में दर्शन के लि‍ये आये थे, जहां उनकी 1 लाख रुपये कीमत की सोने की चेन चोरी हुई है। इसके बाद मदद करने की जगह वहां मौजूद सुरक्षाकर्मि‍यों ने उनके बुजुर्ग माता-पि‍ता को केवल यहां वहां दौड़ाकर परेशान करने का काम कि‍या।

महि‍ला सरोजा पात्रो के पति राधामोहन पात्रो ने फोन पर बताया कि वो आज ही उड़ीसा से आये हैं। गंगा स्नान करने के बाद हम अपनी पत्नी के साथ श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर दर्शन-पूजन के लिए गए थे। वहां जिस समय हम गर्भगृह के बाहर से झांकी दर्शन कर रहे थे, उसी वक्‍त वहां मौजूद तीन-चार लोगों में से एक ने मेरी पत्नी के गले में पड़ा नेकलेस निकाल लिया और वहां से भाग गया।

कहा, पत्नी को जब पता चला तो हमने वहां मौजूद पुलिसकर्मियों से इस बात की शिकायत की तो उन्होंने कहा कि कंट्रोल रूम जाइये। वहां जाने में हमें एक घंटा लग गया, क्योंकि हमें कुछ पता नहीं था। वहां पहुंचने पर हमने शिकायत की तो पुलिसकर्मियों ने कहा बैठिये देखते हैं, जब दो घंटा बीत गया और हमने पूछा तो हमें डांटना शुरू कर दिया। कहा कि क्यों पहन के आयी थी सोने की चेन।

राधामोहन ने कहा कि इसके बाद वहां एक सज्जन ने हमें कहा कि थाने चले जाइये, वहां आप की मदद हो पायेगी। फिर किसी तरह पूछकर हम लोग थाने पहुंचे और लिखित तहरीर दी। इसके बाद पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज चेक किया। हमें बताया गया कि‍ जहां से हम लोगों ने दर्शन किया वहां का सीसीटीवी कैमरा खराब है।

राधामोहन पात्रो ने दुखी मन से कहा कि काशी में हमें आज बहुत परेशान होना पड़ा। हम दो से तीन दिन के लिए आये थे, पर इतना परेशान होना पड़ा कि आज ही वापस जा रहे हैं, हमें अपना सामान भी नहीं चाहि‍ए।

You cannot copy content of this page