Varanasi ऑन द स्पॉट 

बलिया में पत्रकारों की गिरफ्तारी की निंदा : काशी पत्रकार संघ की ओर से CM Yogi को प्रकरण से कराया जाएगा अवगत, बैठक कर विरोध

Varanasi : यूपी बोर्ड की परीक्षा में बलिया में पेपर लीक होने के मामले में तीन पत्रकारों की गिरफ्तारी की काशी पत्रकार संघ ने निंदा की है। अध्यक्ष सुभाचंद्र सिंह की अध्यक्षता में संघ की कार्यसमिति की सोमवार को हुयी बैठक में वक्ताओं ने कहा कि बिना विवेचना के आनन-फानन में बलिया के पत्रकारों की गिरफ्तारी औचित्यहीन और निदंनीय है।

कहा, संघ को मिली जानकारी के अनुसार, इन पत्रकारों ने पेपर लीक प्रकरण की बाकायदा अपने अखबारों को खबरें भेजी, लोगों को सच से अवगत कराया और अधिकारियों के कहने पर उन्हें वायरल पेपर की प्रतियां भी सोशल मीडिया द्वारा भेजी।

सच्चाई उजागर करना पत्रकार का धर्म है और उन्होंने अपने पत्रकारिता कार्य का पालन किया है। ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिशा-निर्देश दिया है कि पत्रकारों को अनावश्यक न परेशान किया जाय। विवेचना बाद ही कोई कार्रवाई की जाय। इस दिशा निर्देश का पालन इस कर्रवाई में नहीं दिखता है।

बैठक में निर्णय लिया गया कि पूरी घटना में मुख्यमंत्री सहित आला अधिकारियों को अवगत कराया जाय ताकि न्याय हो सके। संघ ने यह मांग की कि सम्पूर्ण मामले की निष्पक्ष जांच करायी जाय।

बैठक में डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह, लक्ष्मीकांत द्विवेदी, पूर्व अध्यक्ष योगेश कुमार गुप्त, रमेश राय, कमलेश चतुर्वेदी, उमेश गुप्ता, पुरूषोत्तम चतुर्वेदी, जीतेंद्र श्रीवास्तव, पूर्व अध्यक्ष राजनाथ तिवारी, राधेश्याम कमल, वाराणसी प्रेस क्लब के अध्यक्ष चंदन रूपानी, कोषाध्यक्ष शंकर चतुर्वेदी, शैलेश चौरसिया, आलोक श्रीवास्तव, रोशन कुमार जायसवाल, जयनारायण मिश्र सहित अन्य पत्रकार मौजूद थे।

You cannot copy content of this page