Varanasi 

यूफिलेक्स 2022 : डाक विभाग ने सारनाथ सहित बौद्ध परिपथ पर जारी किए छह विशेष आवरण

Varanasi : डाक विभाग द्वारा उत्तरप्रदेश में आयोजित 12वीं डाक टिकट प्रदर्शनी ‘यूफिलेक्स-2022’ के दूसरे दिन सारनाथ (वाराणसी) सहित बौद्ध परिपथ पर कुल 06 विशेष आवरण व विरूपण का विमोचन किया गया। लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहीं और कार्यक्रम की अध्यक्षता उत्तरप्रदेश परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल कौशलेंद्र कुमार सिन्हा ने की।

मेयर संयुक्ता भाटिया ने अपने संबोधन में बौद्ध परिपथ पर विशेष आवरण जारी किए जाने की सराहना करते हुए कहा कि बुद्ध का जीवन सत्य, अहिंसा, प्रेम, दया, करुणा और त्याग की प्रतिमूर्ति हैं, बुद्ध की शिक्षाओं से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए।

चीफ पोस्टमास्टर जनरल कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा ने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि डाक टिकटों के माध्यम से विज्ञान प्रौद्योगिकी, जैव विविधता, स्पोर्ट्स, अंतरिक्ष जैसे विभिन्न क्षेत्रों की रोचक व ज्ञानवर्द्धक जानकारियां युवाओं को प्राप्त हो रही है। महात्मा बुद्ध के जीवनकाल से संबंधित स्थलों पर विशेष आवरण जारी होने से लोगों को जहां इन स्थलों की जानकारी होगी वहीं पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

पोस्टमास्टर जनरल वाराणसी परिक्षेत्र कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि सारनाथ (वाराणसी) और कुशीनगर बौद्ध धर्म के चार प्रमुख तीर्थों में शामिल है। सारनाथ को भगवान बुद्ध की प्रथम उपदेशस्थली होने का गौरव प्राप्त है। ज्ञान प्राप्ति के पश्चात भगवान बुद्ध ने अपना प्रथम उपदेश यहीं दिया था जो धर्म चक्र प्रवर्तन के नाम से विख्यात है। इसे बौद्ध मत के प्रचार-प्रसार का आरंभ भी माना जाता है। ऐसे में सारनाथ पर विशेष आवरण जारी होने से अत्यंत हर्ष की अनुभूति हो रही है। डाक टिकट प्रदर्शनी में महात्मा बुद्ध से संबंधित 06 स्थलों सारनाथ (वाराणसी), कपिलवस्तु (सिद्धार्थ नगर), कौशाम्बी, संकिसा (कन्नौज), श्रावस्ती व कुशीनगर पर विशेष आवरण व विरूपण जारी किए गये हैं। ये सभी स्थान उत्तरप्रदेश में ही स्थित है।

पोस्टमास्टर जनरल वाराणसी परिक्षेत्र ने आगे बताया कि सारनाथ पर जारी विशेष आवरण में भगवान बुद्ध की विशाल प्रतिमा, धमेख स्तूप, मूलगंध कुटी विहार आदि के खूबसूरत व मनमोहक चित्र समेत आजादी का अमृत महोत्सव व यूफिलेक्स का लोगो भी अंकित है। विशेष कवर के पीछे की ओर सारनाथ का संक्षिप्त परिचय भी मुद्रित है। सारनाथ इतिहास और पर्यटन दोनो की दृष्टि से महत्वपूर्ण होने के साथ-साथ बौद्ध धर्म व मौर्यकालीन सभ्यता का परिचायक भी है।

इस अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल कर्नल एस.एफ.एच रिजवी, संजय सिंह, कृष्ण कुमार यादव, राजीव उमराव व विवेक दक्ष भी मंचासीन रहे तथा मुख्य अथिति के साथ सभी ने विशेष कवर व विरूपण का विमोचन भी किया। स्वागत भाषण निदेशक डाक सेवाएं प्रयागराज गौरव श्रीवास्तव और आभार ज्ञापन प्रवर डाक अधीक्षक आनंद सिंह ने किया। मंच संचालन अखंड प्रताप सिंह ने किया।

You cannot copy content of this page