Varanasi उत्तर प्रदेश धर्म-कर्म 

परंपरा का निर्वहन- कपालभैरव से कोरोना मुक्ति की कामना : बाबा लाट भैरव की कड़ी सुरक्षा के बीच निकली शाही बारात, धूमधाम से मनाया गया विवाहोत्सव, देखें तस्वीरें…

Varanasi : काशी के न्यायाधीश बाबा श्री कपालभैरव (लाट भैरव) का विवाहोत्सव धूमधाम से मनाया गया। सोमवार को लाट भैरव प्रबंधक समिति की ओर से दोपहर दो बजे हरतीरथ स्थित इन्ना माई की गली से आचार्य पं. रविंद्र त्रिपाठी के आचार्यत्व में मुख्य यजमान धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने बाबा के रजत मुखौटे का षोड्षोपचार पूजन-अर्चन कर बारात शोभायात्रा का शुभारंभ किया। इसके बाद बाबा के रजत मुखौटे को भव्य रथ पर विराजमान कराया गया। 

भक्तों ने बाबा के रथ की राह में फूल बिछाए और आरती उतारकर स्वागत किया। बाबा लाट भैरव की बरात में शामिल भक्तों ने हर-हर महादेव का जयघोष किया। बाबा के रजत मुखौटे का पूजन के साथ ही विधि-विधान से विवाहोत्सव की परंपरा निभाई गई। नयनाभिराम झांकी के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। इसमें बाबा के दमकते नेत्रों की आभा देखते ही बन रहीं थी। बारात में भक्त लाट भैरव बाबा की जय, हर-हर, बम-बम का उद्घोष कर रहे थे।

श्रद्धालुओं ने अपने-अपने घरों, दरवाजों, चबूतरों से आरती और पुष्प वर्षा कर श्रद्धा समर्पित की। बरात में लघु मेले का स्वरूप दिखा। भक्तों ने बाबा से कोरोना महामारी से मुक्ति दिलाने की कामना की। बारात में 51 डमरुओं की थाप से बने श्रद्धा-भक्ति के वातावरण में खुद को थिरकने से न रोक पाए।

इन मार्गों से गुजरा बारात

निर्धारित मार्ग विशेश्वरगंज, भैरवनाथ चौराहा, भैरवनाथ मंदिर, जतनबर, कतुआपुरा, अंबियामंडी, बलुआबीर, हनुमान फाटक, तेलियाना होते हुए नउआ पोखरा स्थित लाट भैरव बाजार में लगे जनवासे में रुकी। विश्राम के बाद जलालीपुरा मार्ग से कज्जाकपुरा स्थित मंदिर प्रांगण पहुंची। सामान्य वर्षों में दो किलोमीटर लंबी बारात को गंतव्य तक पहुंचने में लगभग 12 घंटे लगते थे, लेकिन कोरोना बंदिशों के कारण महज तीन घंटे में यात्रा तय कर ली गई।

पंच परिक्रमा

गोधूलि बेला में द्वारपूजा की गई। रजत मुखौटे को मंदिर की पांच परिक्रमा कराई गई और वैवाहिक अनुष्ठान संपन्न हुआ। देर रात तक मंदिर के गर्भगृह में भक्तों का तांता लगा रहा। कपाल मोचन तीर्थकुंड को रंग-बिरंगे विद्युत झालरों से सजाया गया था। देर रात हजारे से बाबा की आरती उतारी की गई। अध्यक्ष हरिहर पांडेय ने बताया कि सभी आयोजन सांकेतिक रूप से किए गए।

सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त

अत्यंत संवेदनशील स्थल माना जाने वाला लाट भैरव मंदिर परिसर सहित बारात के मार्ग भर में सुरक्षा की दृष्टि से बड़ी संख्या में पुलिस व पीएसी के जवानों को तैनात किया गया था। कई मजिस्ट्रेटों, क्षेत्रीय अधिकारीयों सहित आदमपुर थाना SHO सिद्धार्थ मिश्रा ने सुरक्षा व्यवस्था में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। जिससे शांतिपूर्ण वातावरण में सकुशल सम्पूर्ण कार्यक्रम संपन्न हुआ।

You cannot copy content of this page