Varanasi उत्तर प्रदेश धर्म-कर्म 

Eid ul Fitr 2021 : चांद का हुआ दीदार, ईद का त्योहार कल, घरों में नमाज पढ़ने की अपील

Varanasi : ईद का चांद दिखाई दे गया है, शुक्रवार कोईद-उल-फितर (Eid ul Fitr) का त्योहार मनाया जाएगा। ईद-उल-फितर मुसलमानों का सबसे बड़ा त्योहार है, जो रमज़ान के महीने के पूरा होने पर मनाया जाता है। ईद-उल-फितर का त्योहार रमज़ान के 29 या 30 रोजे रखने के बाद चांद देखकर मनाया जाता है।

ईद का चांद दिखते ही शहर में मुस्लिम बंधुओं में खुशियों की लहर दौड़ गई। चारो तरफ आतीशबाजी की गई। लोगों ने अभी से गले मिलकर एक दूसरे को ईद की बधाई देनी शुरु कर दी। 

नई सड़क स्थित लंगड़े हाफिज मस्जिद में रुयत-ए-हेलाल कमेटी की बैठक हुई। इसमें बनारस सहित पूर्वांचल के कई जिलों में चांद दिखने की तस्दीक की गई। ऐलान किया गया कि शुक्रवार को ईद मनाई जाएगी। 

बता दें कि ईद-उल-फितर का चांद दिखाई देने के साथ ही रमज़ान का महीना खत्म हो जाता है और शव्वाल का महीना शरू होने के साथ ईद मनाई जाती है। इसलिए चांद के हिसाब की वजह से दुनियाभर में ईद मनाने की तारीख अलग-अलग होती है।

वहीं, पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी कोरोना संकट को देखते हुए सभी मस्जिद में नमाज़ पढ़ने की इजाजत नहीं है। एक तरफ जहां प्रशासन मुस्तैद है तो वहीं, मौलाना और उलेमाओं की तरफ से घर में ही ईद की नमाज़ पढ़ने की अपील की गई है। इसके साथ ही कोरोना से महफूज रहने की दुआ करने की अपील की गई है। इसके अलावा घर में परिवार के साथ ईद की खुशियां मनाने की गुजारिश की गई है।

4 से 5 लोग ही मस्जिदों में अदा करेंगे ईद की नमाज़

मुस्लिम समुदाय के लोग ईद के मौके पर जमात के साथ नमाज़ अदा नहीं करेंगे। केवल 4 से 5 लोग ही मस्जिदों और ईदगाह में नमाज़ अदा करेंगे। कोरोना संक्रमण को देखते हुए ये फैसला किया गया है। काशी के मौलानाओं ने कहा कि सभी लोग मस्जिदों और ईदगाहों में जमात के साथ नमाज़ बढ़ने की बजाए अपने घरों में नमाज़ अदा करें।

You cannot copy content of this page