Breaking Crime Exclusive Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

पुलिस और बदमाशों के बीच फायरिंग : HS को लगी गोली, SO बाल-बाल बचे, अमन यादव हत्याकांड में शामिल है जख्मी आरोपी, जानिए वारदात वाले दिन से अबतक क्या-क्या हुआ

Varanasi : ग्रामीण एरिया की पुलिस और बदमाशों के बीच शुक्रवार की रात मुठभेड़ हो गई। दोनों और से गोलियां दगीं। फायरिंग में एक बदमाश के पैर में गोली लगी जबकि फूलपुर थाना प्रभारी के बुलेट प्रूफ जैकेट को टच करते हुए गोली निकल गई। जख्मी बदमाश को पुलिस ने अस्पताल पहुंचाया।

प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक, फूलपुर थाना क्षेत्र में पुलिस की टीम और बदमाशों के बीच गोलियां चलीं हैं। जौनपुर के बदमाश सदानंद यादव के पैर में गोली लगी है। वह जख्मी हुआ है। कहा जा रहा है कि सदानंद यादव जौनपुर के केराकत थाने का हिस्ट्रीशीटर है। वह अमन यादव की हत्या में शामिल था।

करखियांव मोड के पास एक दूध फैक्ट्री के पीछे पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई। फायरिंग में फूलपुर थाने के कार्यवाहक थानेदार अभिषेक राय बाल-बाल बच गए। अगर उन्होंने बुलेट प्रूफ जैकेट नहीं पहना होता तो कहानी कुछ और होती।

दरअसल, पुलिसिया तफ्तीश में जानकारी मिल रही थी कि पिंडरा में अमन यादव (20) की हत्या और कृपाशंकर यादव (24) पर जानलेवा हमले का कनेक्शन जौनपुर केराकत के हार्डकोर अपराधी से जुड़ रहा है। एक ही गैंग में दो फाड़ होने पर दोनों एक दूसरे के जान के दुश्मन बने हुए हैं। इसी गैंगवार में अमन की हत्या हो गई। केराकत थाने के तीन हिस्ट्रीशीटरों ने वारदात को अंजाम दिया। पुलिस की तफ्तीश में सामने आया कि कृपाशंकर और विरोधी खेमे के बीच अब टकराहट और भी तेज हो गई है।

पंचायत चुनाव की रंजिश से कृपाशंकर के ऊपर छह माह में तीसरी बार यह जानलेवा हमला हुआ था। साल भर के अंदर आधा दर्जन बार दोनों गिरोह आमने सामने हुए हैं। याद होगा, सोमवार की शाम देवकली जौनपुर निवासी कृपाशंकर यादव अस्पताल से इलाज कराने के बाद केराकत मीरपुर निवासी अमन यादव के साथ बाइक से अपने घर लौट रहा था कि बोलेरो सवार बदमाशों ने पिंडरा के नेशनल इंटर कॉलेज के पास पिस्टल से ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी थी।

बाइक पर पीछे बैठे कृपाशंकर और अमन गोली लगते ही दोनों सड़क पर जा गिरे थे। अस्पताल में अमन की मौत हो गई थी। इस घटना के पांच माह पूर्व 18 मई को भी बदमाशों ने कृपाशंकर को मुगलसराय कोतवाली क्षेत्र में गोली मारी थी, उस समय नौ राउंड चली गोली में पांच गोली कृपाशंकर को लगी थी। हालांकि, वह उस हमले में बच गया। 

सोमवार को अमन यादव सिर्फ कृपाशंकर के साथ में रहने के कारण मारा गया, केराकत के रहने वाले बदमाश कृपाशंकर को ही मारने आए थे। फूलपुर और क्राइम ब्रांच की तीन टीमें जौनपुर में आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर दबिश दे रही थीं। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाशों का लोकेशन जौनपुर में ही मिला था। एक सफेदपोश के संरक्षण में दोनों के होने की बात सामने आ रही थी।

उधर, एसपी सूर्यकांत त्रिपाठी का कहना था कि पंचायत चुनाव के समय से ही एक ही गैंग में फूट पड़ने से कृपा और केराकत थाने के हिस्ट्रीशीटर के बीच अदावत चली आ रही है। कृपा ने पूछताछ में कई अहम जानकारियां पुलिस को दी थीं। पुलिस की तीन टीमें बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए लगाई गई थीं।

जख्मी सदानंद की क्रिमिनल हिस्ट्री

You cannot copy content of this page