Breaking Crime Exclusive Varanasi 

Gangs of banaras : सनी के मारे जाने के बाद भी चलती रही ‘Company’, किट्टू और सोनू सरीखे Criminals पुलिस के लिए Challenge बनकर उभरे

Varanasi : पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम के साथ गुरुवार की देर रात पांच दिन में तिबारा हुई फायरिंग में एक लाख रुपये का इनामी रोशन गुप्ता उर्फ बाबू उर्फ किट्टू मारा गया। पुलिस टीम पर फायरिंग करते हुए उसका साथी भाग निकला। एनकाउंटर की जानकारी पर एसएसपी अमित पाठक एसपी सिटी विकास चंद्र त्रिपाठी मुठभेड़ स्थल पर पहुंचे। पुलिस को मुठभेड़ स्थल से दो पिस्टल, एके-47 की गोलियां और बाइक मिली है। क्रॉस फायरिंग में सब इंस्पेक्टर विनय तिवारी और क्राइम ब्रांच के सिपाही जीतेंद्र सिंह भी गोली लगने से जख्मी हुए हैं।

याद होगा, 2015 में पुलिस ने जिला महिला अस्पताल में इनामी बदमाश सनी सिंह को एनकाउंटर में मार दिया था। सनी के मारे जाने के बाद बड़ी पियरी वाला एक लाख रुपये का इनमिया रोशन गुप्ता किट्टू सिर उठाने लगा। रोशन ने व्यापारियों, ठेकेदारों और चिकित्सकों से रंगदारी वसूलना शुरू कर दिया। किट्टू की लगातार बढ़ती सक्रियता के चलते पुलिस उसके पीछे पड़ी। लेकिन, वह कभी पकड़ा नहीं गया। साल 2018 में दशाश्वमेध में हुए राकेश और रईस हत्याकांड में भी किट्टू का नाम आया था। पुलिस काफी समय से उसे पकड़ने में लगी थी।

कई जिलों में नेटवर्क

किट्टू का नेटवर्क यूपी के कई जिलों में था। एक जगह पर किसी घटना को अंजाम देने के बाद वह दूसरे प्रदेश या जिले में भाग जाता था। जब माहौल ठंडा हो जाता वह तब लौट कर आता था। सराफा कारोबारी से किट्टू द्वारा दिनदहाड़े गुंडा टैक्स मांगने का सीसीटीवी फुटेज भी वायरल हुआ था। पुलिस और सख्ती से किट्टू की तलाश में लगी थी।

कारोबारियों को राहत

उत्तर प्रदेश स्वर्णकार संघ के प्रदेश प्रभारी मार्केंडेय वर्मा ने कुख्यात किट्टू के मारे जाने के बाद फोर्स को बधाई दी। कहा कि, उसके मरने से शहर के व्यापारियों और स्वर्ण कारोबारियों को बड़ी राहत मिली है। बताया कि, सराफा कारोबारी से रंगदारी मांगने में इसकी मुख्य भूमिका थी। मुठभेड़ में किट्टू के मारे जाने के बाद व्यापारी काफी राहत महसूस कर रहे हैं। मैं सभी व्यापारियों की तरफ एसएसपी और पुलिस टीम को इस कार्रवाई के लिए बधाई देता हूं।

तीन दर्जन के करीब मुकदमे

एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि सनी गिरोह का रोशन गुप्ता सदस्य था। किट्टू पर तीन दर्जन के करीब आपराधिक मुकदमें दर्ज थे। करीब एक दर्जन मुकदमे हत्या और हत्या के प्रयास के हैं। गिरफ्तारी को लेकर टीम ने इसे चैलेंज के रूप में लिया। गुरुवार की रात चेकिंग के दौरान मुठभेड़ में किट्टू मारा गया। पुलिस को अब नरोत्तमपुर वाले एक लाख रुपये के इनामी मनीष सिंह सोनू की तलाश है। पुलिस मुठभेड़ में 50-50 हजार रुपए के इनामी मोनू की मौत हो गई है और अनिल यादव गिरफ्तार किया जा चुका है।

दो लाख के इनाम का ऐलान

एसएसपी ने कार्रवाई में शामिल पुलिस टीम को इस सफलता के लिए बधाई दी। किट्टू की क्रिमिनल हिस्ट्री खंगाली जा रही है। कार्रवाई में शामिल टीम को शासन की तरफ से दो लाख रुपये का इनाम देने का ऐलान किया गया है।

एसपी सिटी की अगुआई

एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि मुठभेड़ का नेतृत्व एसपी सिटी विकस चंद त्रिपाठी ने किया। टीम में सीओ अमरेश सिंह बघेल, क्राइम ब्रांच प्रभारी वाले अश्वनी पांडेय, जैतपुरा थाना प्रभारी शशिभूषण राय, सब इंस्पेक्टर विनय तिवारी, क्राइम ब्रांच सिपाही जीतेंद्र सिंह और विनय सिंह सहित अन्य पुलिसवाले शामिल हैं।

You cannot copy content of this page