बड़ी बोल 

Guest Writer : सरफिरों बनके आलिम मेरा वजूद न परखो, मैंने कीमिया हर मर्ज की खुद ही बनाली है

मैंने दर्द ए दिल से अच्छी सोहबत बना ली है, मैंने आंसुओं से उनकी सांसे चुरा ली है।

दुनियां का चिढ़ाना मुझे रास आने लगा है, मैंने खुश रहने की अच्छी आदत बना ली है।

मोहब्बत सबसे है मगर अब इश्क नहीं होता, मैंने तस्वीर हकीकत की जब से बनाली है।

सरफिरों बनके आलिम मेरा वजूद न परखो, मैंने कीमिया हर मर्ज की खुद ही बनाली है।

उनसे मिलो तो कहना अब रोती नहीं धड़कन, ‘बांके’ सिसकियों से सांसों ने दूरी बना ली है।

Disclaimer

Guest writer कॉलम के जरिए आप भी अपनी बात, शेर-ओ-शायरी, कहानी और रचनाएं लोगों तक पहुंचा सकते हैं। ‘आज एक्सप्रेस’ की तरफ से Guest writer द्वारा लिखे गए लेख या रचना में कोई हेरफेर नहीं की जाती। Guest writer कॉलम का उद्देश्य लेखकों की हौसला अफजाई करना है। लेख से किसी जीवित या मृत व्यक्ति का कोई सरोकार नहीं। यह महज लेखक की कल्पना है। Writer की रचना अगर किसी से मेल खाती है तो उसे महज संयोग माना जाएगा।

You cannot copy content of this page