Breaking Crime Varanasi ऑन द स्पॉट 

वह बहुत जल्दी अमीर बनना चाहता था : पूर्व विधायक से ठगी करने वाला ड्राइवर पकड़ा गया, 50 हजार रुपये के जूते खरीदे, खाने-पीने और कपड़ों पर लाखों रुपये उड़ाए

Varanasi : रोहनिया विधानसभा के विधायक रहे सुरेंद्र नारायण सिंह के ड्राइवर ने ठगी करते हुए उनके अकाउंट से 30 लाख रुपये निकाल लिए। ऑनलाइन शापिंग के जरिए ढेरों सामान मंगाए। यह सिलसिला तकरीबन दो साल तक चलता रहा।

ठगी की जानकारी होने पर पूर्व विधायक की ओर से कायम कराए गए मुकदमे की जांच के दौरान ड्राइवर की कारस्तानी का पता चला। साइबर क्राइम थाने की पुलिस ने उसे गिरफ्तार करते हुए उसके पास से करीब आठ लाख रुपये के सामान बरामद किया है। बरामद सामान में ज्यादातर डीजे के सिस्टम हैं। पुलिस ने आरोपी ड्राइवर का चालान कर दिया है।

साइबर क्राइम थाना सारनाथ में पकड़े गए ड्राइवर विवेक कुमार को मीडिया के सामने पेथ करते हुए नोडल अधिकारी साइबर क्राइम अभिषेक पांडेय ने बताया कि रोहनिया थाना क्षेत्र के औढ़े निवासी पूर्व विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह ने चार अप्रैल को साइबर क्राइम थाने में मुकदमा कायम कराया था। बताया था कि मेरा खाता विधानसभा लखनऊ स्थित बैंक में है। इसमें विधायक पद से संबंधित सेलरी आती है।

कहा था, मेरे खाते से किसी ने मेरी जानकारी के बिना धोखे से साल 2019 से 2021 के बीच लगभग 30 लाख रुपये की ऑनलाइन शापिंग की है। नोडल अधिकारी साइबर क्राइम अभिषेक पांडेय की निगरानी में टीम गठित करके जांच शुरू की गयी। बैंक और ऑनलाइन शांपिग कंपनियों से जानकारी हासिल करने पर पू‌र्व विधायक के ड्राइवर मिर्जापुर सिखर के गौरिया गांव निवासी विवेक कुमार की संलिप्तता सामने आई।

शुक्रवार को उसे करसड़ा विद्युत उपकेंद्र के पास से पकड़ लिया गया। पूछताछ में उसने बताया कि वह साल 2018 से पूर्व विधायक की फार्चुनर चलाता था। उनके स्वजन उसे परिवार के सदस्य के रूप में मानते थे। पूर्व विधायक का मोबाइल, एटीएम सब वह अपने पास रखता था। ठगी की योजना के तहत उसने धीरे-धीरे परिवार का भरोसा जीत लिया।

अपने मोबाइल में ऑनलाइन शापिंग कंपनी का ऐप डाउनलोड करके ऑनलाइन शापिंग शुरू कर दिया। वह इसके लिए पूर्व विधायक का डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करता था। 0TP उनके मोबाइल पर आता था तो उसे आसानी से हासिल कर लेता था। सामानों को अपने घर के पते पर मंगाता था जिससे किसी को पता नहीं चलता था। कक्षा पांच पढ़ने वाला विवेक कुमार पूर्व विधायक सुरेंद्र नाराणय सिंह की गाड़ी चलाता था।

वह एक डीजे सिस्टम तैयार करना चाहता था। इसके लिए जरूरी सामानों की ऑनलाइन शापिंग करता था। उसने कई तरह के एम्पलिफायर, लाइट, म्यूजिक सिस्टम, टीवी स्क्रीन, मोबाइल सहित ढेरों सामान मंगाए। इनमें से कई सामान को पुलिस ने बरामद किया है।

पूर्व विधायक को ठगने वाला विवेक कुमार चुनार थाने का चौकीदार भी है। ड्राइवर के तौर पर नौकरी करने पर उसे हर महीने नौ हजार रुपये मिलते थे। वह जल्दी से जल्दी अमीर बनना चाहता था। उसने ठगी का रास्ता चुना। पूर्व विधायक और उनके स्वजनों का भरोसा जीतकर उन्हें ही धोखा देने लगा।

विवेक ऑनलाइन शापिंग के जरिए अपने हर शौक पूरे कर रहा था। दो सालों में एक बार भी उसकी धोखाधड़ी किसी के सामने नहीं आ सकी इसलिए उसका हौसला बढ़ता गया। उसने 138 सेमी की 5.8 लाख रुपये टीवी खरीदी थी। 50 हजार रुपये के जूते अलग-अलग कंपनी के खरीदे। खाने-पीने और कपड़ों पर लाखों रुपये खर्च किया। 120 लीटर क्षमता का कूलर भी खरीदा था। इनमें से कई सामान पुलिस के हाथ लगे हैं।

You cannot copy content of this page