धर्म-कर्म 

बसंत पंचमी पर अगर मां सरस्वती को नहीं करना है नाराज, तो भूलकर भी न करें ये काम

हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि के दिन बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन संगीत व ज्ञान की देवी मां सरस्वती के पूजन का विधान है। ऐसी मान्यता है कि यदि बच्चे इस दिन मां सरस्वती का पूजन करें तो उन्हें मां का आशीर्वाद प्राप्त होता है और पढ़ाई के क्षेत्र में सफलता मिलती है। इस साल बसंत पंचमी का त्योहार 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के दिन मनाया जाएगा। इस दिन मां सरस्वती का विधि-विधान से पूजन करने से भक्तों को मनचाहे फल की प्राप्ति होगी। लेकिन ध्यान रखें कि बसंत पंचमी के दिन भूलकर भी कुछ कामों को नहीं करना चाहिए। आइए जानते हैं इस दिन कौनसे कार्य करने की मनाही है-

बसंत पंचमी के दिन न करें ये काम

आमतौर पर सभी जानते हैं कि बसंत पंचमी के दिन पीले या हरे रंग के वस्‍त्र धारण किए जाते हैं। इसलिए इस दिन काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए। इस दिन पीले, सफेद या धानी रंग के वस्त्र पहन सकते हैं।

सरस्वती पूजा के दिन व्यक्ति को अपना मन शांत रखना चाहिए। किसी से वाद-विवाद में न फंसें और न ही गुस्‍सा करें। इस दिन पितृ तर्पण करने का भी विधान है। इसलिए ये ध्‍यान रखें कि इस दिन घर में भी कलह न हो। ऐसा होने से पितरों को कष्ट पहुंचता है।

बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती का पूजन किया जाता है और इस दिन पेड़-पौधे काटने से बचना चाहिए। इतना ही नहीं इस दिन घर में भी पौधों की कटाई-छंटाई भूलकर भी नहीं करनी चाहिए। इससे मां सरस्वती नाराज होती हैं।

इस दिन सुबह स्‍नान करने के बाद पहले मां सरस्‍वती की पूजा करें। उसके बाद ही भोजन आदि ग्रहण करें। सरस्वती पूजा के दिन बिना नहाए कुछ भी नहीं खाना चाहिए।

बसंत पंचमी यानि सरस्वती पूजा के दिन तामसिक चीजों के सेवन से बचना चाहिए। मांसाहार और शराब का सेवन ना करें। सात्विक भोजन ग्रहण करें और खुश रहें।

You cannot copy content of this page