Breaking Crime Varanasi उत्तर प्रदेश 

NTA को दी गई सूचना : NEET- UG सॉल्वर गैंग के संपर्क में थे 24 और कैंडिडेट, कमिश्नरेट पुलिस ने किया चिन्हित, बोले CP- सभी कैंडिडेट को क्रिमिनल प्रोसीजर कोड के तहत भेजा जाएगा नोटिस

Varanasi : नीट-यूजी सॉल्वर गैंग का सरगना अब भी पुलिस की गिरफ्तार से दूर है। पुलिस लगातार उसके गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। वहीं, कमिश्नरेट पुलिस द्वारा चल रही जांच और पकड़े आरोपियों से पूछताछ में चौंका देने वाले खुलासे हुए है। पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश के निर्देशन में पूरे साल्वर गैंग की तह तक जाने के प्रयास में थी। इसी बीच गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ के आधार पर पुलिस ने बिहार, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा और ओडिशा के अन्य 24 कैंडिडेट को चिह्नित किया है। उनका विवरण और उनके परीक्षा फॉर्म से फिंगर प्रिंट के सैंपल लेकर परीक्षा आयोजित कराने वाली संस्था नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) को सूचना दे दी है।

इस सम्बन्ध में पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश ने बताया कि हमने 24 और कैंडिडेट चिह्नित किये हैं जो साल्वर गैंग से टच में थे और उस दिन उनकी परीक्षा थी। ऐसे में सभी कैंडिडेट को पुलिस की ओर से क्रिमिनल प्रोसीजर कोड के तहत नोटिस भेजा जाएगा। आगे यह किसी परीक्षा में शामिल न हो सकें, इसकी मुकम्मल व्यवस्था की जाएगी। इसके साथ ही अदालत में इन सभी की अग्रिम जमानत के विरोध के लिए पुलिस ठोस सबूत एकत्र कर रही।

होनहारों का भविष्य खराब

सीपी ने बताया कि यह एक अलग किस्म की जालसाज़ी है। कुछ लोग अपने फायदे के चक्कर में गरीब होनहार बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ का प्रयास करते हैं और इसमें लालच देकर सफल भी हो जाते हैं, जिससे उनका तो कैरियर खराब होता ही साथ ही जिसके स्थान पर वो परीक्षा देते हैं उसका भी कैरियर खत्म हो जाता है। ठोस साक्ष्यों के आधार पर ही पुलिस उनकी अग्रिम जमानत नहीं होने देगी। बिहार, पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा के लिए तीन अलग-अलग पुलिस टीमें गठित की गई हैं। साक्ष्य संकलन का काम लगभग खत्म होने के कगार पर है।

अबतक की कार्रवाई

दरअसल, NEET-UG की परीक्षा बीते 12 सितम्बर को आयोजित की गई थी। वाराणसी के सारनाथ क्षेत्र स्थित एक स्कूल में भी इसका सेंटर था जहां से वाराणसी कमिश्नरेट पुलिस ने त्रिपुरा की कैंडिडेट हिना विश्वास की जगह बीएचयू की बीडीएस की छात्रा जूली कुमारी को परीक्षा देते हुए गिरफ्तार किया था। पटना की रहने वाली जूली के साथ परीक्षा केंद्र से उसकी मां बबिता भी गिरफ्तार की गई थी। 14 सितंबर को MBBS का छात्र ओसामा शाहिद और जूली का भाई अभय गिरफ्तार हुआ।18 सितंबर को सॉल्वर गैंग का विकास कुमार महतो और फोटोशॉप का काम करने वाला राजू कुमार गिरफ्तार हुआ।

जल्द ही घोषित होगा इनाम

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि फिलहाल सॉल्वर गैंग का सरगना, उसके गिरोह के सदस्य और संपर्क में रहे सभी कैंडिडेट अपने-अपने ठिकाने छोड़ कर भागे हुए हैं। पिछले वर्षों में नीट में शामिल संदिग्ध अभ्यर्थियों को भी खंगाला गया है। इनसे भी पुलिस को इनपुट मिलने की उम्मीद है।सॉल्वर गैंग के सरगना पर अब पुलिस इनाम घोषित करने की तैयारी में है।

You cannot copy content of this page