Health Varanasi 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 : डाक विभाग ने आयोजित किया Countdowns, वाराणसी परिक्षेत्र के 663 पोस्टऑफिस ऑनलाइन जुड़े

Varanasi : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-2022 के क्रम में डाक विभाग ने 25 अप्रैल को काउंटडाउन्स आरंभ किया, जिसमें देश भर के 50 हजार पोस्ट ऑफिस ऑनलाइन जुड़े। इसमें उत्तर प्रदेश के 5637 डाकघर 28,187 लोगों के साथ, वहीं वाराणसी परिक्षेत्र में 663 डाकघर 7,335 लोगों के साथ जुड़े। नई दिल्ली में केंद्रीय संचार एवं रेलवे मंत्री अश्विनी वैष्णव, संचार राज्य मंत्री देवुसिंह चौहान, सचिव डाक विभाग विनीत पांडेय ने देश के विभिन्न भागों से जुड़े लोगों को योग के लिए प्रोत्साहित किया।

वहीं, वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने मालवीय भवन, काशी हिंदू विश्वविद्यालय में कैंट विधायक सौरभ श्रीवास्तव, निदेशक मालवीय भवन डॉ. उपेंद्र पाठक और प्रवर डाक अधीक्षक राजन राव संग इस अभियान में भाग लेते हुए लोगों को ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-2022’ से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया। सारनाथ में आयोजित कार्यक्रम में सुमेधा टेरो, विहाराधिपति, जम्बूदीप मंदिर, डाक अधीक्षक पीसी तिवारी, सामाजिक कार्यकर्ता शशिकांत राय सहित तमाम लोगों ने योग के प्रति प्रेरित किया।

विभिन्न डाक मंडलों और डाकघरों में हजारों लोग इस अभियान से जुड़े। इस अवसर पर कैण्ट विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने कहा कि भारतीय संस्कृति की अमूल्य और विलक्षण धरोहर और मानव के उत्तम स्वास्थ्य का आधार योग है। यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदर्शी सोच का परिणाम है कि अब वैश्विक स्तर पर योग दिवस को उत्सव के रूप में मनाया जाता है।

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि, योग न सिर्फ हमें नकारात्मकता से दूर रखता है अपितु हमारे मनोमस्तिष्क में अच्छे विचारों का निर्माण भी करता है। कोरोना महामारी के दौर में योग का महत्त्व और अधिक बढ़ गया है, जिसे अपनाकर हम सभी को स्वस्थ भारत के निर्माण में सहभागी बनना चाहिए।

बीएचयू में मालवीय भवन के निदेशक डॉ. उपेंद्र पाठक ने डाक विभाग की इस पहल की सराहना करते हुए कहा कि योग जीवन का वह दर्शन है, जो मनुष्य को उसकी आत्मा से जोड़ता है और मनुष्य के मानसिक, शारीरिक व आध्यात्मिक ऊर्जा को बढ़ाता है।

जम्बूदीप मंदिर, सारनाथ के विहाराधिपति सुमेधा टेरो ने कहा कि भारतीय संस्कृति प्राचीन काल से ही विश्वव्यापी है। महात्मा बुद्ध द्वारा प्रतिपादित बौद्ध धर्म में भी योग के अष्टांग योग की भांति निर्वाण के लिए अष्टांग मार्ग का वर्णन है, जिसमें यम और नियम का भी समावेश है।

सारनाथ में इंदल विश्वकर्मा और बीएचयू में मालवीय भवन में आयोजित कार्यक्रम में योग प्रशिक्षक डॉ. योगेश भट्ट ने योगासनों की जानकारी दी। सौम्या मिश्रा, उन्नति उपाध्याय, शिव शंकर पांडेय ने कुलगीत प्रस्तुत किया। इस अवसर पर सहायक डाक अधीक्षक आरके चौहान, सुरेश चंद्र, पंकज कुमार, अजय मौर्या, निरीक्षक श्रीकांत पाल, नरेश बारा, पोस्टमास्टर रमाशंकर वर्मा, जेपी सिंह, राम रतन पांडेय, कुलभूषण तिवारी, श्री प्रकाश गुप्ता, राजेंद्र यादव, राहुल वर्मा, अजिता, अभिलाषा आदि की मौजूदगी थी।

You cannot copy content of this page