Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

सेवाओं को कस्टमर फ्रेंडली बना रहे : UPI QR Code के जरिए भुगतान की सुविधा, आसानी से कर सकेंगे डिजिटल पेमेंट

Varanasi : डाकघरों में लोगों की सुविधा के लिए तमाम सेवाओं का विस्तार किया जा रहा है। डाक विभाग भी नवीनतम टेक्नोलॉजी को अपनाते हुए अपनी सेवाओं को कस्टमर फ्रेंडली बना रहा है। इसी क्रम में अब प्रधान डाकघरों के बुकिंग काउंटरों पर क्यूआर कोड लगाये गए हैं, जिन्हें स्कैन कर ग्राहक यूपीआई के माध्यम से डिजिटल भुगतान कर सकेंगे। पोस्टमास्टर जनरल वाराणसी परिक्षेत्र कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि पहले फेज में सभी प्रधान डाकघरों में 16 अप्रैल से इस सेवा का शुभारंभ किया गया। इनमें वाराणसी परिक्षेत्र के सभी 6 प्रधान डाकघरों-प्रधान डाकघर वाराणसी, वाराणसी कैंट, जौनपुर, गाजीपुर, बलिया व रसड़ा में इस सेवा का शुभारंभ हुआ है। प्रधान डाकघरों में स्पीड पोस्ट, पार्सल, पंजीकृत पत्रों की बुकिंग और देश-विदेश को भेजे जानी वाली विभिन्न प्रकार के पत्र, पार्सल व अन्य डाक वस्तुओं के बुकिंग चार्ज का भुगतान अब कैश के अलावा डिजिटल पेमेंट के माध्यम से भी हो सकेगा। डाक विभाग ने डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था के लिए क्यूआर कोड से यूपीआई आधारित ऑनलाइन भुगतान की सुविधा ग्राहकों के लिए उपलब्ध करा दी है।

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डिजिटल भुगतान प्राप्त करने के लिए प्रधान डाकघरों के बुकिंग काउंटरों पर क्यूआर कोड लगाये गए है जिसका प्रयोग कर यूपीआई के माध्यम से डिजिटल भुगतान किया जा सकेगा। पत्र, पार्सलों की बुकिंग के दौरान काउंटर क्लर्क द्वारा पॉइंट ऑफ सेल पर पत्र के प्रेषक व प्राप्तकर्ता की सभी जानकारियों को दर्ज करने के उपरांत ग्राहक को रकम बताई जायेगी और क्यूआर कार्ड को स्कैन कर भुगतान की प्रक्रिया संपन्न करने को कहा जाएगा। उक्त क्यूआर कोड को स्कैन कर किसी भी यूपीआई पेमेंट मोबाइल एप्लीकेशन जैसे डाक पे, गूगल पे, फोन पे, पेटीएम, एमेजन पे आदि के द्वारा भुगतान किया जा सकेगा। भुगतान की प्रक्रिया ग्राहक द्वारा पूर्ण करने पर सॉफ्टवेयर सेंट्रल सर्वर से भुगतान संपन्न होने की जानकारी लेगा और ग्राहक की रसीद प्रिंट हो जाएगी।

कहा, डाकघरों में इस सेवा के शुरू होने से ग्राहकों की सुविधाओं में इजाफा होने के साथ-साथ डिजिटल अर्थव्यवस्था भी सुद्रढ़ होगी। अब डाकघरों में आए हुए ग्राहकों को फुटकर रुपयों की समस्या से राहत मिल जाएगी और काउंटर पर बैठे डाक सहायक को रुपयों के लेन-देन से भी छुटकारा प्राप्त हो जाएगा। काउंटर पर रुपयों का लेन-देन शामिल न होने से समय की भी बचत होगी। हालांकि, नकद रकम देकर डाक वस्तुओं की बुकिंग का कार्य भी पूर्व की ही भांति होता रहेगा।

You cannot copy content of this page