#Lockdown : मिट्टी का बर्तन बनाने वाले कुम्हार मायूस, कर रहे हालात सामान्य होने का इंतजार

#Varanasi : लॉकडाउन के चलते सभी लोग अपने घरों में हैं। लोगों से लॉकडाउन का पालन सख्ती से कराया जा रहा है। लोगों का कारोबार बंद है। मौजूदा हालात की मार मिट्टी के बर्तन, दीया कुल्हड बनानेवालों पर भी पड़ी है।

दरअसल, बनारस में बड़ी संख्या में मिट्टी के बर्तन बनाने वाले कुम्हार रहते हैं। उनके हाथों से बनाए गए कुल्हड की चाय और लस्सी पीने के साथ ही मिट्टी के घड़े का पानी भी लोग पीते हैं। बिक्री बंद है। कुम्हार हालात सामान्य होने का इंतजार कर रहे हैं ताकि सब कुछ पहले जैसा दोबारा हो जाए।

उदास बैठे अपने हाथों से बनाये गए कुल्हड़ को देखते जगदीश प्रजापति बताते हैं कि उनका घर इसी व्यवसाय से चलता है। जगदीश का ये पुस्तैनी काम है जो वो बखूबी करते हैं। पर आज उनका चाक बंद है। जगदीश चाय और लस्सी पीने वाला मिट्टी का कुल्हड़, पानी पीने के मिट्टी के झंझर और पूजा में इस्तेमाल होने वाली मिट्टी की दीया बनाने का काम करते हैं। कमोवेश यही स्थिति दिनेश कुमार और चंद्रमा की भी है। सभी हालात सामान्य होने का इंतजार कर रहे हैं।