Varanasi धर्म-कर्म 

बच्चों को संस्कार संस्कृति से अवगत कराएं : मानस विदुषी रुचि शुक्ला बोलीं- गाय, तुलसी, गंगा और ब्राह्मण की सेवा कर भारत को और प्रतिष्ठित करें

Varanasi : मानस प्रचार समिति द्वारा आयोजित नौ दिनी राम कथा का प्राचीन शिव धाम मंदिर पर आयोजन किया गया था। आयोजित नौ दिनी रामकथा के विश्राम दिवस पर मानस विदुषी रुचि शुक्ला ने कहा कि गाय, तुलसी, गंगा और ब्राह्मण की सेवा करके हम भारत को प्रतिष्ठित करें। हमारे यहां सनातन धर्म की परंपरा रही है।

कहा, गाय, गंगा, और तुलसी का मां के रूप में हम लोग पूजन करते थे जिसका परिणाम था कि भारत खुशहाल और समृद्ध था। भारत को खुशहाल और समृद्धि बनाने के लिए गास, गंगा और तुलसी का पूजन करें। गाय की सेवा करें। मां गंगा को स्वच्छ और निर्मल रखें।

हमें अपनी संस्कृति को बचा कर रखना होगा। अपने बच्चों को बताना होगा ताकि वह अपनी संस्कृति को जान सकें। भगवान शंकर प्रभु राम के बाल लीला का दर्शन करने गये। बुजुर्ग ब्राह्मण का वेष उन्होंने धारण किया था। कौशल्या माता को जैसे ही पता चला कि बाहर बुजुर्ग ब्राह्मण दर्शन को खडे हैं तुंरत महल में बुलवाया और काफी सत्कार किया।

भगवान शिव ने कहा कि आपके वृद्ध ब्राह्मण सेवा भक्ति का परिणाम है कि आप के घर विश्व का पालनहार आया है। जौनपुर से आए पं. रामेश्वरानंद ने हनुमानजी के चरित्र की व्याख्या की। कथा के बाद राजेश कुमार सिंह ने श्रोताओं के प्रति आभार व्यक्त किया। संचालन पं. राकेश चंद्र पांडेय ने किया।

You cannot copy content of this page