Breaking Crime Health Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

पैसा बोलता ही नहीं गलत करने पर फंसा भी देता है : हॉस्पिटल के बोर्ड पर छह महीना पहले मरे डॉक्टर का नाम, बिना रजिस्ट्रेशन के चल रहा था अस्पताल, मरीजों को भर्ती कर रखा था, आगे…

Varanasi : फिल्मी गाने का बोल याद होगा, पैसा बोलता है। पैसा बोलता जरूर है लेकिन गलत करने पर फंसा भी देता है। दरअसल, वाराणसी के लंका थाना क्षेत्र के छित्तूपुर में एसएमएस हेल्थ केयर हास्पिटल बगैर पंजीयन और बिना किसी चिकित्सक के संचालित हो रहा था।

अस्पताल के बोर्ड पर जिस चिकित्सक का नाम दर्ज था उसकी मौत छह माह पूर्व हो चुकी है। बावजूद इसके, अस्पताल में मरीजों की भर्ती कर उनका उपचार भी किया जा रहा था।

मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने चिकित्सालय को बंद कराने के साथ ही उसके संचालक के खिलाफ मुकदमा कायम कराने का निर्देश दिया है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संदीप चौधरी ने बताया कि दासमती देवी पत्नी नत्थू लाल निवासिनी छित्तूपुर ब्लाक काशी विद्यापीठ ने गत दिनों एसएमएस हेल्थ केयर हास्पिटल, छित्तूपुर, लंका, वाराणसी के विरुद्ध शिकायत की थी।

शिकायत पर अस्पताल का औचक निरीक्षण कराया गया। निरीक्षण में पाया गया कि चिकित्सालय बिना पंजीयन और बिना चिकित्सक के संचालित किया जा रहा है।

निरीक्षण के दौरान अस्पताल का सुरेंद्र वहां उपस्थित था। पूछताछ में पता चला कि अस्पताल के बोर्ड पर डॉ. एसपी सिंह का नाम दर्ज है। उनकी मृत्यु छह माह पूर्व हो चुकी है। इससे साफ हुआ कि मृत चिकित्सक के नाम का दुरूपयोग अस्पताल द्वारा किया जा रहा था।

निरीक्षण के दौरान अस्पताल में दो मरीज भर्ती मिले, जिन्हें अन्यत्र उपचार कराने को कहा गया। सीएमओ ने बताया कि बिना पंजीयन और बिना चिकित्सक के चिकित्सकीय कार्य किये जाने के दृष्टिगत एसएमएस हेल्थ केयर हास्पिटल, छित्तूपुर, लंका, वाराणसी का संचालन तत्काल प्रभाव से बंद कराने का निर्देश दिया गया है।

साथ ही बिना पंजीकरण कराये चिकित्सा प्रतिष्ठान संचालित किये जाने, चिकित्सकीय कार्य किये जाने के सम्बन्ध में सुसंगत धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए लंका थाने में तहरीर दी गयी है।

You cannot copy content of this page