Breaking Crime Varanasi 

50 हजार के इनामी मोनू का आपराधिक सफर खत्म, Varanasi में पुलिस और बदमाशों के बीच फायरिंग, दो पुलिसवालों को भी लगी गोली

Varanasi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय में सिर उठा रहे बदमाशों को पुलिस ने रविवार की रात मैसेज दिया कि औकात में रहो अन्यथा की स्थिति में कहीं भी मुठभेड़ हो सकती है। जान जा सकती है। दरअसल, पुलिस और बदमाशों की मुठभेड़ में 50 हजार रुपये के इनामी मोनू चौहान का अपराधिक सफर खत्म हुआ। पुलिस की गोली से उसकी मौत हो गई। भाग निकले उसके साथी अनिल की तलाश पुलिसवाले सरकारी असलहा लेकर कर रहे हैं।

ऐढ़े गांव के नजदीक ठांय-ठांय

रिंग रोड के पास ऐढ़े गांव के नजदीक रविवार देर शाम पुलिस और क्राइम ब्रांच से हुई मुठभेड़ में 50 हजार रुपये का इनामी बदमाश मोनू चौहान मारा गया गया। शूटआउट में पांडेयपुर चौकी प्रभारी राजकुमार पांडेय और क्राइम ब्रांच के सिपाही विनय सिंह को भी गोली लगी है। दोनों पुलिसवालों को प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। दोनों की हालत खतरे से बाहर है।

मोनू को बाएं पैर और सिर में लगी गोली

बकौल पुलिस, मोनू को एक गोली बाएं पैर और दूसरी सिर में लगी। उसे कबीरचौरा स्थित शिव प्रसाद गुप्ता मंडलीय अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने बताया कि उसकी मौत हो गई है। गोइठहां में कारोबारी से लूट और हत्या का आरोपित मोनू उर्फ मोनी उर्फ अरविंद चौहान पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ था।

काले रंग की अपाचे से आते दिखे दो युवक

पुलिस को पता चला था कि गोइठहां के पास ही फिर से रिंग रोड पर वह अपने साथी अनिल के साथ लूट करने निकला है। एसपी सिटी विकास चंद्र त्रिपाठी और सीओ क्राइम अमरेश सिंह बघेल की अगुवाई में लालपुर-पांडेयपुर थाने की पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम वहां पहुंची। वाहनों की चेकिंग के साथ ही संदिग्धों की तलाशी शुरू की गई। तकरीबन पौने आठ बजे काले रंग की अपाचे बाइक से दो युवक आते दिखे। पुलिस को देख कर दोनों भागने की कोशिश करने लगे। पुलिस ने जब घेरेबंदी की तो फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की। एक गोली मोनू के बाएं पैर में लगी। दूसरी उसके सिर में लगी। वह लड़खड़ाकर गिर पड़ा।

चौकी इंचार्ज को बाएं और कांस्टेबल को दाएं हाथ में गोली लगी

उधर, उसका दूसरा साथी अनिल अंधेरे का फायदा उठाते हुए भाग निकला। बदमाशों की फायरिंग में लालपुर-पांडेयपुर थाने के पांडेयपुर चौकी प्रभारी राजकुमार पांडेय और क्राइम ब्रांच के सिपाही विनय सिंह जख्मी हो गये। चौकी इंचार्ज राजकुमार को बाएं और कांस्टेबल विनय को दाएं हाथ में गोली लगी है। मोनू को पुलिस ने कबीरचौरा शिव प्रसाद गुप्ता मंडलीय अस्पताल भेजवाया। पुलिसवालों को प्राइवेट हॉस्पिटल ले जाया गया।

मोनू पर कायम हैं 17 मुकदमे

मुठभेड़ में मारे गए क्रिमिनल मोनू चौहान पर बनारस के अलग-अलग थानों में 17 मुकदमे कायम हैं। पुलिस को उसकी पिछले कई दिनों से तलाश थी। जिस काले रंग की अपाचे बाइक से वह वारदात को अंजाम देता था वह खासी चर्चा में थी।

बोले एसएसपी

एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि कबीरचौरा अस्पताल में इलाज के दौरान मोनू चौहान की मौत हो गई। उस पर 50 हजार रुपये का इनाम था। एक लाख रुपये इनाम घोषित करने की संस्तुति की गई थी। कारोबारी की गोली मारकर हुई 20 हजार रुपये की लूट और महिला को गोली मारने के मामले में मोनू और अनिल का नाम विवेचना के दौरान सामने आया। कहा, अनिल की गिरफ्तारी के लिए कांबिंग की जा रही है। वह भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। कप्तान ने बताया कि काले रंग की अपाचे बाइक के साथ असलहे बरामद हुए हैं।

error: Content is protected !!