Breaking Crime Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

NEET परीक्षा धांधली प्रकरण : इनामी डॉक्टर अफरोज पकड़ा गया, हाईकोर्ट से एंटीसिपेटरी बेल पाने का कोशिश कर रहा था

Varanasi : NEET परीक्षा धांधली प्रकरण में कमिश्नरेट पुलिस ने एक और अभियुक्त को गिरफ्तार किया है। NEET परीक्षा फर्जीवाड़ा मामले में वांछित 50 हजार रुपये के इनामी अभियुक्त डॉक्टर अफरोज अहमद पुत्र सलाउद्दीन खान निवासी नई बाजार पुरवा, तुलसीपुर, बलरामपुर मूल निवासी- नचौरी, गैंसड़ी, बलरामपुर को पकड़ा गया है।

वह फ्लैट नंबर 305 गुडलक स्क्वायर अपार्टमेंट, कैसरबाग लखनऊ में रह रहा था। मंगलवार सुबह सर्विलांस सेल और सारनाथ पुलिस की साझा टीम ने सिंहपुर बाईपास के पास से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार डॉक्टर के पास से परीक्षा में सम्मिलित हुए अभ्यर्थी के मूल शैक्षिक दस्तावेज बरामद हुए हैं।

पूछताछ में उसने ने बताया कि साल 2010-11 के सत्र में कानपुर के GSVM मेडिकल कॉलेज में MBBS में एडमिशन लिया। सत्र 2017-18 में पास आउट हुआ। साल 2019 में उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग से मेडिकल ऑफिसर के पद पर चयन हुआ था।

वर्तमान में लखनऊ के दाउदनगर PHC और मोहनलालगंज CHC में बतौर चिकित्सा अधिकारी कार्यरत था। साल 2020 में डॉक्टर शिफा खान से निकाह हुआ। वह लखनऊ के मेदांता हॉस्पिटल में कार्यरत थीं।

डॉक्टर ओसामा और पटना के नीलेश उर्फ PK आदि से संपर्क साल 2018-19 में लखनऊ आने पर हुआ। साल 2021 में NEET परीक्षा में चार कैंडिडेट को सॉल्वर बैठाकर पास कराने का काम लिया था।

12 सितंबर 2021 को NEET परीक्षा वाले दिन सॉल्वर जूली और गैंग के अन्य मेंबर के पकड़े जाने पर वह नेपाल भाग गया था। बाद में हिमांचल प्रदेश, दिल्ली और अपनी ससुराल अमेठी में जगह बदल-बदल कर छिप कर रह रहा था। हाईकोर्ट से एंटीसिपेटरी बेल पाने का कोशिश कर रहा था।

पूछताछ में उसने बताया कि MBBS में चयन CPMT परीक्षा के माध्यम से साल 2010 में हुआ था। काउंसलिंग के वक्त ही अज्ञात शख्स द्वारा शिकायत की गई कि मेरा चयन फर्जी तरीके से सॉल्वर बैठाकर हुआ है।

जांच के बाद थाना स्वरूप नगर कानपुर नगर में मुकदमा कायम हुआ था। शिकायत और मुकदमे की जांच के कारण मेरी इंटर्नशिप रुक गई थी। बाद में याल 2017 में मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लग जाने के बाद इंटर्नशिप पूरी हुई।

गिरफ्तार डॉक्टर के पर कायम अन्य मुकदमों के बारे में जानकारी की जा रही है। पूछताछ में आए तथ्य को विवेचना में सम्मिलित कर अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। डॉ. अफरोज को पुलिस अभिरक्षा में न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया।

You cannot copy content of this page