Crime Varanasi 

Varanasi में भतीजे ने गोली मारकर चाचा को उतारा मौत के घाट, गिरफ्तारी के लिए लगाई गई पुलिस की तीन टीमें

Varanasi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में आपराधिक घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। वारदातों की लंबी होती चेन में शनिवार को एक और कड़ी जुड़ी। भतीजे ने गोली मारकर चाचा की हत्या कर दी। शूटआउट की जानकारी मिलने पर एसएसपी अमित पाठक और एसपी सिटी विकास चंद्र त्रिपाठी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। बीते सप्ताह भर की बात की जाए तो पुलिस क्राइम फ्रंट पर बैकफुट पर नजर आ रही है। घड़ी कारोबारी की लूट के लिए हुई हत्या, महिला की हत्या की कोशिश, सराफा व्यापारी से 50 लाख रुपये की रंगदारी मांगने और गर्ल्स हॉस्टल के मैनेजर की हत्या के बाद छोटा लालपुर में भतीजे ने गोली मार कर चाचा को मौत के घाट उतार दिया।

दरअसल, छोटा लालपुर (कैंट) स्थित मस्जिद के पास शाहिद इकबाल उर्फ मुन्ने खां (45) अपने चचेरे भाई के घर गए थे। उनकी कनपटी पर गोली मार कर भतीजे जुगनू ने हत्या कर दी। एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि घर के लोगों ने पुलिस को बताया है कि तकरीबन 26 साल पहले जुगनू के पिता की हत्या हुई थी। हत्या के आरोप में शाहिद जेल गया था। जुगनू और शाहिद के बीच सब कुछ सामान्य चल रहा था। शाहिद के चचेरे भाई मुश्ताक के घर सभी रोज बैठते थे।

सुबह भी सभी मुश्ताक के घर बैठे थे। अचानक शाहिद और जुगनू के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी होने लगी। इसी बीच जुगनू ने असलहा निकाल कर शाहिद की कनपटी पर गोली मार दी। गोली लगते ही शाहिद जमीन पर गिरे। उनकी मौत हो गई। जुगनू असलहा लहराते भाग निकला। एसएसपी ने बताया कि जुगनू के दो करीबियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। उसकी तलाश में पुलिस की तीन टीमें लगाई गई हैं। शाहिद का शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया है।

रात घर के लोगों से जुगनू का हुआ था झगड़ा

घर के लोगों ने पुलिस को बताया है कि शाहिद अपने भाई मुश्ताक के साथ घर में बैठ कर सेब खा रहे थे तभी भतीजा जुगनू आया। उसको भी सेब खाने को दिया गया। मुश्ताक ने बताया कि जुगनू अभी सेब खा ही रह था, हम लोगोंं ने सोचा कि घर मे आए मेहमानोंं को छोड़ आएंं। कुछ कदम आगे जी बढ़े थे कि जुगनू ने पीछे से गोली मार कर शाहिद की हत्या कर दी। करीब 26 साल पहले जमीन के विवाद में जुगनू के पिता की हत्या हो गई थी। हत्या में मुश्ताक को आरोपी बनाया गया था। जुगनू का रोज घर पर आना जाना था। जुगनू ने शुक्रवार की रात शराब के नशे में अपनी पत्नी भाई की पत्नी की भी पिटाई की थी। शनिवार सुबह मांं को भी घर से निकाल दिया था। जुगनू चार भाइयोंं में सबसे बड़ा है। उसका ससुराल लमही में है।

सीजीएम ऑफिस में आउटसाइडर है हत्यारोपी

शहिद इकबाल ने तकरीबन 26 साल पहले अपने चचरे भाई आरोपी जुगनू के पिता के माजीद खान की गोली मारकर हत्या कर दी थी। उसी हत्याकांड को लेकर दोनों परिवारों में काफी दिनों से दुश्मनी चल रही थी, लेकिन इधर बीच सब ठिक हो गया था। शाहिद और जुगनू के बीच में किसी बात को लेकर बहस हुई। जुगनू ने चाचा शाहिद पर पिस्टल से गोली चला दी। वारदात को अंजाम देने के बाद वह भाग निकला। हत्याकांड का आरोपी सीजेएम ऑफिस में आउटसाइडर है।

error: Content is protected !!