Education Varanasi 

बीएचयू में परसेंटाइल नहीं, स्कोर पर मिलेंगे कॉल लेटर : सोशल साइंस से बीए में नहीं जुड़ेंगे हिस्ट्री-जियोग्राफी के नंबर

Varanasi : सेंट्रल यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) एग्जाम के बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय एनटीए यानी कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के पैटर्न पर अपने अभ्यर्थियों का सेलेक्शन नहीं करेगा। बीएचयू ने स्पष्ट कर दिया है कि वह परसेंटाइल नहीं स्कोर के आधार पर छात्रों को कॉल लेटर भेजेगा। बीएचयू जिस आधार पर सेलेक्शन करता आया है, ठीक उसी पैटर्न पर ही एडमिशन की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। बीएचयू की सभी 18 हजार सीटों पर यही नियम अपनाया जाएगा। साढ़े 7 लाख छात्रों की सूची एनटीए से बीएचयू को मिल गई है। ये वे छात्र हैं, जिन्होंने अपने आवेदन में बीएचयू के कोर्स प्रोग्राम को भरा है।

इस बार एडमिशन की दूसरी सबसे अहम बात यह है कि बीएचयू एंट्रेंस में जिन-जिन विषयों की परीक्षा ली जाती थी, केवल उन्हीं के मार्क्स मेरिट में काउंट किए जाएंगे। इसका अर्थ यह है कि यदि आपने बैचलर ऑफ साइंस के लिए पीसीएम ग्रुप यानी कि फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथ्स के साथ हिंदी, अंग्रेजी और जनरल अवेयरनेस की परीक्षा दी है, तो बीएचयू केवल पीसीएम ग्रुप के मार्क्स मेरिट में जोड़ेगा।

वहीं, सोशल साइंस में बीए का एंट्रेंस दिया है, तो इतिहास और भूगोल का नंबर मेरिट में जोड़ने के बजाय केवल लैंग्वेज और जनरल अवेयरनेस के पेपर का नंबर काउंट होगा। क्योंकि बीएचयू के एंट्रेंस में लैंग्वेज और जनरल अवेयरनेस ही पूछा जाता था।

You cannot copy content of this page