Health Varanasi 

पोषण पाठशाला कल : वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये विभागीय अधिकारी और विशेषज्ञ करेंगे चर्चा, जुड़कर आप भी हासिल कर सकते हैं जानकारी, ये है प्रोसेस

Varanasi : बाल विकास सेवा और पुष्टाहार विभाग द्वारा लाभार्थियों को विभाग की सेवाओं के सम्बन्ध में जागरूक करने के लिए वाराणसी सहित प्रदेश भर में 26 मई को ‘पोषण पाठशाला’ का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यक्रम की मुख्य धीम शीघ्र स्तनपान, केवल स्तनपान निर्धारित की गई है।

जिला कार्यक्रम अधिकारी डीके सिंह ने बताया कि शासन से प्राप्त निर्देश के क्रम में आईसीडीएस विभाग की ओर से प्रथम पोषण पाठशाला का आयोजन 26 मई (बुधवार) को अपरान्ह 12 से दो बजे के मध्य एनआईसी के माध्यम से वीडियों कॉन्फेसिंग द्वारा किया जायेगा।

पोषण पाठशाला में विभागीय अधिकारियों के अतिरिक्त विषय विशेषज्ञों की ओर से शीघ्र स्तनपान, केवल स्तनपान की आवश्यकता, उपयोगिता, विभाग की सेवाओं, पोषण प्रबन्धन, कुपोषण से बचाव के उपाय, पोषण शिक्षा आदि के सम्बन्ध में हिन्दी में विस्तार से चर्चा की जायेगी।

वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लाभार्थियों व अन्य द्वारा पूछे गये प्रश्नों का उत्तर दिया जायेगा। इस कार्यक्रम का लाइव वेब-कॉस्ट भी किया जायेगा, जिसकी वेब लिंक mailto:https://webcast.gov.in/up/icds है। इस लिंक के माध्यम से कोई भी लाभार्थी और लोग कार्यक्रम से सीधे जुड़ सकते हैं।

जिला कार्यक्रम अधिकारी ने पोषण पाठशाला के आयोजन के सम्बन्ध में विस्तृत दिशा-निर्देश समस्त विकास खंड परियोजना व नगर विकास परियोजना के बाल विकास परियोजना अधिकारियों (सीडीपीओ), मुख्य सेविकाओं, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं को जारी कर दिये हैं। उन्होंने निर्देशित किया कि जिन प्रतिभागियों या लाभार्थियों को प्रश्न पूछना है, उनकी सूची पूर्व में तैयार कर लें तथा उन्हें एनआईसी में अनिवार्य रूप से बुलाया जायेगा, क्योंकि एनआईसी के माध्यम से ही प्रश्न पूछा जा सकता है। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग की आशा व आशा संगिनी भी वेब लिंक के माध्यम से इस कार्यक्रम से जुड़ेंगी। समस्त आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा अपने केन्द्र पर पंजीकृत अन्तिम त्रैमास की गर्भवती, धात्री माताएं और उनके अभिभावक की उपस्थिति सुनिश्चित की जायेगी।

जो लाभार्थी किसी कारण से केंद्र पर नहीं आ पायेंगे वह यथा सम्भव अपने घरों से वेब लिंक के माध्यम से इस कार्यक्रम से जुड़ेगें। समस्त आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को अपने केंद्र पर कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए उनके सरकारी मोबाइल पर केंद्रीकृत व्यवस्था (एमडीएम) से लिंक भेज दिया गया है।

डीपीओवने बताया कि वर्तमान में जनपद में 3914 आंगनबाड़ी केंद्र संचालित हैं। इसमें नगर में 991 और ग्रामीण में 2923 आंगनबाड़ी केंद्र संचालित हैं। पोषण पाठशाला के आयोजन के लिए प्रत्येक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एक आंगनबाड़ी केंद्र से कम से कम 15 लाभार्थी को जोड़ना सुनिश्चित करेंगी। उन्होंने लाभार्थियों से अपील की है कि पोषण पाठशाला की लिंक से ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़ें, पोषण और स्तनपान के बारे में उपयुक्त जानकारी प्राप्त करें।

You cannot copy content of this page