COVID-19 Crime Exclusive Health Lucknow Varanasi उत्तर प्रदेश पूर्वांचल 

Online fraud : वैक्सीनेशन के बाद मिलने वाले सर्टिफिकेट को आप भी सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं? CP ए. सतीश गणेश ने किया आगाह, पढ़िए, कैसे हुए लोग साइबर ठगी के शिकार

Varanasi : Corona टीकाकरण तेजी से चल रहा है। वैक्सीन लगाने के बाद हर व्यक्ति को सर्टिफिकेट भी दिया जा रहा है। वैक्सीन के पहले डोज के बाद मिलने वाला सर्टिफिकेट प्राथमिक है। वहीं, दूसरी डोज के बाद लोगों को परमानेंट सर्टिफिकेट दिया जा रहा है।

सर्टिफिकेट को बेहद जरूरी बताया जा रहा है। लेकिन, कुछ लोग सर्टिफिकेट के महत्व को जाने बिना वैक्सीनेशन करवाने के बाद सोशल मीडिया पर इसे शेयर कर रहे हैं। अब इसको लेकर सरकार ने लोगों को सचेत रहने को कहा है। सर्टिफिकेट सोशल मीडिया पर शेयर न करने की बात कही है।

पुलिस आयुक्त ए. सतीश गणेश ने भी लोगों से वैक्सिनेशन की जानकारी सोशल मीडिया पर शेयर न करने की अपील की है। उन्होंने कहा, ऐसा करने से ठगी का शिकार होने का खतरा है। उन्होंने कहा कि, वैक्सीनेशन का प्रमाणपत्र वायरल करने से कई यूजर ठगी के शिकार हुए हैं। आधार सहित अन्य व्यक्तिगत जानकारी के आधार पर साइबर अपराधी लोगों के बैंक खातों में सेंधमारी कर रहे हैं।

इन जिलों में लोग हुए हैं शिकार

मेरठ, कानपुर, बरेली सहित अन्य जगहों से इस तरह के मामले सामने आये हैं। घटना के बाद CP बनारस ने लोगों को आगाह किया गया है। पुलिस आयुक्त ने ट्वीट कर इस तरह की जानकारी साझा न करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि अगर साइबर ठगी का शिकार हुए हैं तो www.cybercrime.gov.in पर शिकायत कर सकते हैं। जिले के साइबर थाने में शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।

आरोपियों का कबूलनामा

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि साइबर ठगी के बाद पकड़े गये आरोपियों ने स्वीकार किया कि वैक्सिनेशन के बाद जो लोग सोशल मीडिया पर प्रमाणपत्र डाल रहे हैं, उसके जरिये ही गोपनीय जानकारियां उन्हें मिलीं। वे उनके खाते तक जा पहुंचे।

इसलिए है सर्टिफिकेट जरूरी

वैक्सीन लगवाने के बाद मिलने वाले सर्टिफिकेट भविष्य में आपके बेहद काम आ सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार, यदि आप वैक्‍सीन लगवाने के बाद यात्रा पर जाते हैं तो आपको यह सर्टिफिकेट दिखाना होगा। सर्टिफिकेट पर एक QR कोड दिया गया है जिसे स्कैन करते ही वैक्सीन लगवाने वाले की पूरी जानकारी मिल जाएगी।

You cannot copy content of this page