Breaking Crime Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

फोर व्हीलर से भागते हैं दूसरे राज्य : 48 घंटे से ज्यादा नहीं रुकते कारोबारी से रुपये लेकर भागने वाले ठग, सीसी फुटेज के आधार पर गाड़ी की पहचान, पुलिस जल्द कर सकती है खुलासा

Varanasi : कबीरचौरा तिराहे से कुछ कदम दूर हुई आठ लाख रुपये की ठगी में वाराणसी कमिश्नरेट पुलिस के हाथ अहम सुराग लगे हैं। 25 मार्च को हुई इस वारदात में पुलिस को लगातार सुराग मिल रहे हैं।

बाइक से भागे चारों ठगों के चार पहिया वाहन की भी वाराणसी पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पहचान कर ली है। ये सभी अंतरराज्यीय गैंग के सदस्य हैं, जो वारदात को अंजाम देकर दूसरे राज्य भाग जाते हैं।

पुलिस आयुक्त ए. सतीश गणेश ने बताया कि चौक थाना क्षेत्र के सबसे व्यस्त चौराहे में से एक कबीरचौरा इलाके में 25 मार्च की सुबह दिनदहाड़े गाजीपुर के व्यवसाई से आठ लाख रुपये छीन लिए गए थे। कारोबारी के मुताबिक, वो 14 लाख रुपये लेकर खरीदारी करने वाराणसी आया था। पांच लाख रुपये गोलानाथ में एक व्यापारी का बकाया देकर ऑटो से बेनियाबाग जाने के लिए निकला।

व्यापारी का ऑटो कबीरचौरा पियरी मार्ग पहुंचा ही था कि दो लोगों ने ऑटो रूकवाया। व्यापारी से पूछा कि बैग में क्या रखे हो? कोई असलहा रखे हो क्या? तलाशी के नाम पर उसके बैग से आठ लाख रुपये लेकर फरार हो गए थे। पुलिस लगातार टीमें बनाकर इन्हें पकड़ने की कोशिश में लगी हुई हैं।

पुलिस आयुक्त ने बताया कि लगातार चल रही जांच और सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से कई अहम सुराग हाथ लगे हैं। उन्होंने बताया कि ये सभी अंतरराज्यीय गैंग के सदस्य हैं जो पुलिस ऑफिसर बनकर घटना को अंजाम देता है। घटना करने का इनका सबसे अलग तरीका है जो की यूनिक है। पुलिस को सीसीटीवी फुटेज की लगातार जांच के बाद संदिग्ध अपराधियों की पहचान के बाद घटना में प्रयुक्त वाहन की पहचान भी हो गयी है।

CP ए. सतीश गणेश ने बताया कि ये बहुत ही शातिर अंतरराज्यीय गैंग है। अबतक की छानबीन में कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्यप्रदेश, आंध्रप्रदेश सहित देश के पूर्वोत्तर राज्यों तक इनका नेटवर्क फैला है। उन्होंने बताया कि यह गिरोह लगातार मूवमेंट पर रहता है। यह गैंग एक शहर में घटना को अंजाम देकर चार पहिया गाड़ी से दूसरे राज्य भाग लेता है ।

CP ने बताया कि सबसे खास यह कि ये अपराधी घटना को अंजाम देते वक्त और देने के बाद भी सिर्फ कोडेड भाषा में ही बात करते हैं। हर शहर में सिर्फ एक या दो दिन रुकते हैं। फिर नए शहर की तरफ निकल जाते हैं। इस गैंग के नेक्सेस को तोड़ने के लिए वाराणसी पुलिस काम कर रही है।

You cannot copy content of this page