Breaking Crime Varanasi ऑन द स्पॉट 

पांच थाना प्रभारियों को पुलिस आयुक्त की चेतावनी : महिला और बाल लैंगिक शोषण के प्रकरण में ढिलाई बरतने पर CP खफा, अभियुक्तों की गिरफ्तारी के निर्देश

Varanasi : महिला और बाल लैंगिक शोषण के अपराधों के वांछितों की गिरफ्तारी में ढिलाई बरतने वाले पांच थाना प्रभारियों को पुलिस आयुक्त ए. सतीश गणेश ने चेतावनी जारी की है। CP द्वारा महिला संबंधी अपराधों की समीक्षा गुरुवार को की गई। ऐसी विवेचनाएं जिसमें अभियुक्तों की गिरफ्तारी नहीं हुई है, को गंभीरता से लेते हुए सभी थाना प्रभारियों को कड़े निर्देश जारी किए गए। SHO जैतपुरा, कैंट , शिवपुर, चौक और SO मंडुआडीह शामिल हैं।

उधर, पुलिस आयुक्त ए. सतीश गणेश के निर्देश पर अपर पुलिस उपायुक्त महिला अपराध और मुख्यालय ने कमिश्नरेट वाराणसी के कैंट, सिगरा और चेतगंज थाने का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान महिला हेल्प डेस्क ड्यूटी पर नियुक्त महिलाओं से हेल्प डेस्क पर प्राप्त होने वाले शिकायती प्रार्थना पत्रों और लम्बित शिकायती प्रार्थना पत्रों की समीक्षा की गयी।

निरीक्षण के दौरान सभी थानों पर महिला हेल्प डेस्क कर्मी मौजूद मिलीं। महिला हेल्प डेस्क कक्ष में कम्प्यूटर और सीसीटीवी कैमरा कार्य कर रहा था। सभी प्रार्थनापत्रों का डेटा कम्प्यूटर में फीड था। निरीक्षण में सामने आया कि प्रार्थना पत्रों पर प्रभावी कार्रवाई की जा रही है और नियमानुसार फीड बैक लिया जा रहा है।

पाया गया कि थाना कैण्ट महिला हेल्प डेस्क पर 1 जनवरी 2022 से अबतक 53 शिकायती प्रार्थना पत्र प्राप्त हुये हैं जिनमें से 51 का निस्तारण किया जा चुका है, दो पर कर्रवाई शेष है, सात में अभियोग पंजीकृत हुये हैं, 11 में निरोधात्मक कर्रवाई, 10 में सुलह-समझौता और शेष 23 में अन्य कार्रवाई की गयी है। पिछले 20 दिन में महिला सम्बन्धी अपराधों में 1 अभियुक्त वांछित था, जिसकी गिरफ्तारी की जा चुकी है।

इसी प्रकार थाना सिगरा महिला हेल्प डेस्क के निरीक्षण में पाया गया कि 1 जनवरी2022 से अबतक 65 शिकायती प्रार्थना पत्र प्राप्त हुये हैं। सभी का निस्तारण किया जा चुका है। 15 में अभियोग पंजीकृत हुये हैं। 11 में निरोधात्मक कार्यवाही 10 में सुलह समझौता और शेष 23 में अन्य कार्रवाई की गयी है।

सारनाथ महिला हेल्प डेस्क के निरीक्षण से पाया गया कि 1 जनवरी 2022 से अबतक 28 शिकायती प्रार्थना पत्र प्राप्त हुये हैं। इनमें से 16 में अभियोग पंजीकृत हुये हैं, 4 मे निरोधात्मक कार्रवाई, आठ में सुलह समझौता और शेष कार्रवाई शून्य है।

You cannot copy content of this page