COVID-19 Health Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

दो दिनी रिहर्सल में परखी कोविड-19 से निपटने की तैयारियां : Varanasi के छह CHC, DDU हॉस्पिटल और IMS BHU में पूर्वाभ्यास

Varanasi : पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय, बीएचयू मेडिकल कालेज और छह सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों (सीएचसी) में कोविड-19 संक्रमण के प्रबंधन की तैयारियों को लेकर रविवार व सोमवार को पूर्वाभ्यास किया गया।

संयुक्त निदेशक डॉ. एमपी सिंह ने रविवार को अराजी लाइन सीएचसी और काशी विद्यापीठ के मिसिरपुर सीएचसी तथा रविवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय का निरीक्षण चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आरके सिंह की उपस्थिति में किया। इस दौरान उन्होंने कोविड संक्रमण के प्रबंधन, ऑक्सीजन प्लांट, कोविड व पीकू वार्ड की तैयारियों का हाल जाना।

नोडल अधिकारी एसीएमओ डॉ. एसएस कनौजिया ने चोलापुर सीएचसी में किये गए मॉक ड्रिल का निरीक्षण किया। साथ ही एसीएमओ डॉ. एके मौर्या ने चिरईगांव पीएचसी के अंतर्गत नरपतपुर सीएचसी और एसीएमओ डॉ. अनिल कुमार ने पिंडरा पीएचसी के अंतर्गत गंगापुर सीएचसी में संचालित मोकड्रिल का निरीक्षण किया। डॉ. कनौजिया ने बताया कि कोविड-19 संक्रमण के प्रबंधन की तैयारियां कितनी पुख्ता है।

ऐसे परखी हकीकत

हकीकत परखने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के एक डमी व्यक्ति ने 108 नम्बर पर फोन कर बताया कि उसे सांस लेने में परेशानी हो रही है और वह चल भी नहीं पा रहा। सूचना के 14 मिनट के भीतर ही एम्बुलेंस उस व्यक्ति के बताए हुए पते पर पहुंच गयी और उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चोलापुर के एल-1 चिन्हित अस्पताल ले जाया गया। उसमें कोविड-19 के लक्षण दिखते ही उसे फौरन भर्ती कर वाईपैप आक्सीजन स्टाफ नर्स व चिकित्सक द्वारा सफलतापूर्वक लगाया गया और उसका उपचार शुरू किया गया। इस दौरान कोविड-19 प्रोटोकॉल का अनिवार्य रूप से पालन किया गया। इसी तरह सम्पूर्ण पूर्वाभ्यास के दौरान पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय में एक डमी कोविड संक्रमित बच्चे को एंबुलेंस से उसके अभिभावक के जरिए डॉक्टर के पास लाया गया। कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुसार चिकित्सा कर्मियों के द्वारा उस बच्चे की जांच कर आईसीयू बेड तक ले जाया गया। इस दौरान चिकित्सक और चिकित्साकर्मियों की ओर से इलाज के समस्त मानकों का अनुपालन किया गया।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संदीप चौधरी ने बताया कि दो दिनी फुल रिहर्सल में कोविड-19 प्रबंधन की तैयारियों, ऑक्सीजन प्लांट, आरक्षित बेडों, चिकित्सकों और चिकित्साकर्मियों की तैयारियों, दवाओं और उपकरणों की क्रियाशीलता को परखा गया। जनपद की कोविड-19 केयर चिकित्सा इकाईयों में कोविड संक्रमण के प्रबंधन की तैयारियों व अन्य किए जाने वाले सुधारात्मक कार्यों को चिन्हित किया गया। इस फुल रिहर्सल से प्रशिक्षित किए गए चिकित्साकर्मी तैयारियों के बारे में गहनता से जान सके। इस दौरान अन्य बाल रोग विशेषज्ञ चिकित्सकों ने सहयोग किया एवं मौके पर ही कमियों को दूर किया गया।

सीएमओ ने बताया कि जनपद के छह सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों क्रमशः सीएचसी चोलापुर, सीएचसी अराजीलाइन, सीएचसी नरपतपुर (चिरईगांव), सीएचसी गंगापुर (पिंडरा) सीएचसी हाथी बाजार (सेवापुरी), सीएचसी मिसिरपुर (काशीविद्यापीठ) पर आक्सीजन युक्त 30-30 बेड एवं दो-दो एचडीयू वाइपैप बेड तैयार किए गए हैं। इसी प्रकार दीनदयाल अस्पतालमें पीडियाट्रिक के आक्सीजन युक्त 64 बेड तैयार किए गए हैं जिसमें 20 आईसीयू के बेड तैयार हैं। इसी प्रकार बीएचयू मेडिकल कालेज में कोविड के आक्सीजन युक्त पीडियाट्रिक व आईसीयू बेड तैयार किए गए हैं। डॉ. चौधरी ने मॉकड्रिल के सफलतापूर्वक संचालन के लिए सभी चिकित्सक और चिकित्साकर्मियों की प्रसंशा की।

You cannot copy content of this page