Delhi Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

प्रधानमंत्री स्वनिधी कार्यक्रम : Varanasi देश भर में प्रथम, 21 को Delhi में DM को PM Modi करेंगे सम्मानित

Varanasi : प्रधानमंत्री स्वनिधी कार्यक्रम श्रेणी में साल 2021 के लिए वाराणसी को प्रधानमंत्री पुरस्कार के लिए चुना गया है। भारत सरकार के कार्मिक और प्रशासनिक सुधार मंत्रालय ने रविवार को इसकी घोषणा की। इस राष्ट्रीय पुरस्कार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्राप्त करने के लिए जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा को सिविल सर्विस डे 21 अप्रैल को विज्ञान भवन नई दिल्ली में आमंत्रित किया गया है।

प्रधानमंत्री अवार्ड वर्ष 2021 के लिए छह श्रेणी में घोषित किए गए हैं। ये एक अप्रैल 2018 से 31 दिसंबर 2021 के बीच किए गए उत्कृष्ट कार्यों को ध्यान में रखकर किए गए हैं। अवार्ड के लिए गवर्नेंस के बिंदु में योजना से जुड़े अधिकारियों, कर्मचारियों को कार्य आवंटन, योजना लागू कराने की स्ट्रेटजी, स्टेक होल्डर्स और लाभार्थियों की कैपेसिटी डेवलपमेंट, शिकायत निस्तारण, प्रक्रिया का डिजिटाइजेशन, अन्य स्टेक होल्डर्स का सहयोग, जन सहभागिता की कसौटी पर मूल्यांकन किया गया।

क्वालिटेटिव मूल्यांकन में जन भागीदारी, लाभार्थियों के जीवन स्तर में परिवर्तन, उनको योजना का सही लाभ, व्यवहार में सुधार आदि भी शामिल था। वाराणसी प्रधानमंत्री स्वनिधि श्रेणी के साथ ही अभिनव प्रयोग श्रेणी में भी अंतिम स्टेज तक पहुंचा था। इन दो में से एक स्वनिधि श्रेणी में देश में सबसे अच्छे क्रियान्वयन के लिए वाराणसी को चुना गया।

पुरस्कार की छह श्रेणियां, पोषण अभियान में जन सहभागिता और जन भागीदारी, खेलो अभियान के माध्यम से खेल और वेलनेस को प्रमोट करना, पीएम स्वनिधि योजना में डिजिटल पेमेंट और गुड गवर्नेन्स, वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट के माध्यम से सर्वांगीण विकास, बिना मानव हस्तक्षेप के सर्विस डिलीवरी, अभिनव प्रयोग और नवाचार हैं।

प्रत्येक श्रेणी में दो अवार्ड और अभिनव प्रयोग में अतिरिक्त दो विभागों को इस प्रकार 14 अवार्ड घोषित किये गये हैं। सभी अवार्ड के लिए आवेदनों को तीन तरीके से मूल्यांकन किया गया। गवर्नेंस के बिंदु में योजना से जुड़े अधिकारियों, कर्मचारियों को कार्य आवंटन, योजना लागू कराने की स्ट्रेटेजी, स्टेक होल्डर्स और लाभार्थियों की कैपेसिटी डेवलपमेंट, शिकायत निस्तारण, प्रक्रिया का डिजिटाइज़ेशन, अन्य स्टेक होल्डर्स और लाभार्थियों की कैपेसिटी डेवलपमेंट, शिकायत निस्तारण, प्रक्रिया का डिजिटाइजेशन, अन्य स्टेक होल्डर्स का सहयोग, जन सहभागिता शामिल थे।

क्वालिटेटिव मूल्यांकन में जन भागीदारी, लाभार्थियों के जीवन स्तर में परिवर्तन, उनको योजना का सही लाभ, उनके व्यवहार में सुधार आदि शामिल थे। क्वालिटेटिव मूल्यांकन में योजना के सभी स्तरों पर विभिन्न प्रकार के लक्ष्य, उनकी प्राप्ति, लाभान्वित व्यक्तियो की संख्या आदि शामिल थे।

You cannot copy content of this page