Varanasi 

… फैल गए हैं गांव तक अपने बिल्डर राम

हरियर हास्य कवि सम्मलेन का प्रतिकात्मक आयोजन

Varanasi : विश्व पर्यवारण दिवस के अवसर पर जून के पहले रविवार को अस्सी घाट पर होने वाले हास्य कवि सम्मलेन का आयोजन इस बार कोरोना महामारी के वजह से नहीं किया जा रहा है। इस बार कार्यक्रम के क्रम को जारी रखने के लिए हरियर हास्य कवि सम्मेलन के सदस्यों ने पदाधिकारियों को पौध देने के साथ कविता पाठ कर पर्यावरण के संरक्षित करने के संकल्प को जारी रखा। जिला प्रशासन के कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए प्रतिकात्मक कार्यक्रम को पूर्ण किया गया। कवि सम्मेलन के अध्यक्ष जगदंबा तुलस्यान ने बताया कि गत तीन वर्षो से हो रहे अस्सी घाट पर रंगभूमि ग्रुप ऑफ आर्ट के माध्यम से विश्व पर्यवारण दिवस के अवसर पर पर्यावरण संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हरियर हास्य कवि सम्मेलन बेहद अनूठे ठंग से किया जाता है, लेकिन इस वर्ष कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के कारण हम सिर्फ प्रतीकात्मक रूप से आयोजन कर रहे हैं। लोगों को संदेश देना चाहते हैं कि कोरोना कही न कहीं पर्यावरण के साथ छेड़-छाड़ का नतीजा है। कहा, विश्व पर्यावरण दिवस पर लोगों से अनुरोध कर रहे हैं कि भविष्य को बेहतर बनाने के लिए पर्यावरण संरक्षित करें। 

कार्यक्रम में हरियर हास्य कवि सम्मेलन समिति के संचालक हास्य कवि डॉ. अनिल चौबे ने अपने पाठ से संदेश से दिया। कहा, जल वायु और वृक्ष हैं, प्रकृति के सौगात। मंग-मंद मुस्कात हैं, हरियर-हरियर पात। पेड़ काट कर बन रहे कंकरीट का धाम। फैल गए हैं गांव तक, अपने बिल्डर राम। पर्यावरण संवारिये, छोड़ सकल मतभेद। हो न ओजोन परत में, नए-नए नित छेद। जल वायु और वृक्ष से, अधरों की मुस्कान। पर्यावरण बचाइए, तभी बचेगी जान। पण्डित दीना नाथ हो चाहे चचा करीम। हर उत्सव में रोपिये, बरगद, पीपल, नीम। हरियर हास्य कवि सम्मलेन के प्रतीकात्मक कार्यक्रम में अध्यक्ष जगदंबा ने कवि डॉ. अनिल चौबे को स्मृति चिन्ह और पौधा देकर कर सम्मानित किया। दूसरे समय अंतराल के क्रम में बनारस के युवा कवि अनुराग सागर ने अपने पाठ में पर्यावरण के लिए संदेश दिया। आंचल नदी है और ताज सा है ये पहाड़, आबरू है वन मिल इसको बचाइए। निज स्वार्थ हेतु अब काटिये न पेड़ और पशुओं के खाल से न घर को सजाइए। आने वाली पीढ़ियां न तरसें हवा के लिए, सब मिल एक एक पेड़ को लगाइए। एक न विशेष कोई दिवस हो शेष मात्र, ऐसे पर्व आप नित दिन ही मनाइए। तीसरे समय अंतराल के क्रम में अखिल भारतीय केशरवानी युवा वैश्व समाज के अध्यक्ष सदीप केसरी ने जगदंबा तुलस्यान को पौध और स्मृति चिन्ह दिया। इस क्रम में नीरज केसरी व आशीष विश्वकर्मा को  प्रबंधक शुभम तिवारी द्वारा पौध दिया गया। अंत में धन्यवाद ज्ञापन दीपक तुलस्यान ने किया।

You cannot copy content of this page