धर्म-कर्म 

Ram Navami : मुस्लिम महिलाओं ने उतारी श्रीराम की आरती, कोरोना संकट से देश को बचाने के लिए की गई प्रार्थना

14 वर्षों से लगातार कर रही हैं आरती-पूजन

पूजन-पाठ के वक्त रखा गया शोसल डिस्टेंसिंग का ख्याल

वाराणसी। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में लॉकडाउन लागू होने के बाद सभी देवालय बंद हैं, हर तरह के आयोजन पर रोक लगा दी गई है। गुरुवार को देश में परम्परानुसार रामनवमी का पर्व मनाया गया। देव नगर काशी के सभी राम मंदिरों में भगवान श्रीराम का पूजन-अर्चन किया गया। पूजन के बाद कपाट बंद कर दिया गया। परंपरा निभाते हुए इस वर्ष भी मुस्लिम महिलाओं ने प्रभु श्रीराम की आरती उतारी। संदेश दिया कि भारत में सर्व धर्म सौहार्द अब भी कायम है।

सभी ने मजहब की दीवार को तोड़कर दुनिया को सांप्रदायिक एकता का संदेश दिया। रामनवमी के अवसर पर मुस्लिम महिला फाउंडेशन की महिलाओं ने श्रीराम की आरती कर लोगों को एकता का संदेश दिया। मुस्लिम महिलाओं ने इस साल विश्व में फैले कोरोना संकट से देश को बचाने के लिये प्रभु श्रीराम से प्रार्थना की। विधि-विधान से पूजन किया। नाजनीन अंसारी ने बताया कि हम लोग 14 वर्षों से रामनवमी के अवसर पर प्रभु श्रीराम की आरती करते आ रहे हैं।

कोरोना वायरस की वजह से सिर्फ पांच महिलायों ने आरती में भाग लिया। उन्होंने देश में कोरोना रूपी राक्षस को खत्म करने के लिए श्रीराम से कामना की। कोरोना से लड़ने वाले विश्व भर के योद्धाओं के जीवन रक्षा के लिये मुस्लिम महिलाओं ने प्रार्थना की। मुंह पर मास्क पहनकर महिलाओं ने की श्रीराम आरती उतारी।

You cannot copy content of this page