Breaking Crime Varanasi उत्तर प्रदेश पूर्वांचल 

पुरानी अदावत में देर रात गोली चली : पार्षद के दो साथी जख्मी, तहरीर के आधार पर पुलिस कर रही कार्रवाई

Varanasi : विशेश्वरगंज तिराहे पर रविवार की रात तकरीबन 11.45 बजे पुराना पानदरीबा के पार्षद अंकित यादव से विवाद के बाद मनबढ़ ने गोली चला दी। गोली पार्षद के दोस्त दारानगर निवासी प्रशांत यादव (25) के दाएं पंजे और साहिल यादव (22) के दाईं कलाई में लगी। आरोपी हिमांशु यादव मच्छोदरी दूध कटरा की ओर से कार से आया था। घंटे भर में पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर कार जब्त कर लिया।

पार्षद अंकित यादव के मुताबिक, हिमांशु से करीब 10 साल पुराने मामूली विवाद में सुलह हो गई थी। चार दिन पहले लहुराबीर चौराहे पर वह कार से आया और तेज तेज हॉर्न बजा रहा था। मना करने पर उसने देख लेने की धमकी भी दी थी। रविवार रात वह चार-पांच दोस्त के साथ चाय पी रहे थे, तभी हिमांशु कार से आया और आते ही धमकाने लगा।

जान से मारने की धमकी देते हुए असलहा निकाल लिया। दोस्तों ने बीच-बचाव किया, इस बीच गोली मारकर भागने लगा। मच्छोदरी की ओर भागते समय पार्षद के लोगों ने उसकी कार का शीशा तोड़ दिया। DCP आरएस गौतम ने बताया कि डॉक्टर के अनुसार युवक कार के शीशे से जख्मी हुए हैं। हालांकि एक राउंड गोली चलने की बात कही जा रही है। तहरीर के आधार पर युवक पर मुकदमा दर्ज कार्रवाई की रही है।

जेल में हुई थी पिता की हत्या

याद होगा, पार्षद अंकित यादव के पिता बंशी यादव भी पार्षद थे। मुन्‍ना बजरंगी के लिए रंगदारी वसूलने वाले शूटर अन्‍नू त्रिपाठी और बाबू यादव ने 13 मार्च 2004 को जिला जेल में बंशी यादव को गोली मार दी थी। वर्तमान में जिला कारागार में जो लकड़ी का बड़ा गेट है, उस समय लोहे के ग्रिल वाला गेट हुआ करता था। अन्नू और बाबू ने बाहर से ग्रिल में हाथ डालकर बंशी यादव की गोली मारकर हत्या कर दी थी। पार्षद की हत्‍या के एक साल बाद दो मार्च 2005 को वाराणसी के सेंट्रल जेल में अन्‍नू त्रिपाठी की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई थी। बाबू यादव वाराणसी पुलिस से हुई मुठभेड़ में मारा गया था। अंकित यादव ने 2017 में सपा के टिकट पर चुनाव लड़कर पार्षदी जीता है।

You cannot copy content of this page