Breaking Crime Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

SI भर्ती परीक्षा : फर्जीवाड़ा के आरोपी को मिली जमानत, एक-एक लाख रुपये की दो जमानत और बंधपत्र देने पर रिहा करने का आदेश

Varanasi : दरोगा भर्ती परीक्षा में नकली बाल (विग) में इलेक्ट्रानिक्स डिवाइस का अनुचित प्रयोग करने के मामले में आरोपी को जमानत मिल गयी। विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम आलोक कुमार सिंह की अदालत ने चदेरू, चौकठा थाना जिगना, मिर्जापुर निवासी धर्मराज यादव को एक-एक लाख रुपये की दो जमानतें और बंधपत्र देने पर रिहा करने का आदेश दिया। अदालत में बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता अनुज यादव, चंद्रबली पटेल और सौरभ यादव ने पक्ष रखा।

अभियोजन पक्ष के मुताबिक, नेशनल स्टाक एक्सचेंज इन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी संस्था के चीफ प्राक्टर विनोद ठाकुर ने चितईपुर थाने में 17 नवंबर 2021 को प्राथमिकी दर्ज कराई थी। आरोप था कि दरोगा भर्ती की ऑनलाइन परीक्षा कराने के लिए उसकी ड्यूटी धन्नू राम ऑनलाइन टेस्ट एंड कम्प्यूटर एप्लिकेशन प्रालि., धर्मवीर नगर कालोनी में लगी थी।

17 नवंबर 2021 को तृतीय पाली की परीक्षा के दौरान प्रवेश के समय इंट्री गेट पर चेकिंग के दौरान एक परीक्षार्थी रोहित यादव निवासी प्रयागराज के सिर के पास मेटल डिटेक्टर ले जाने पर बीप की आवाज आई। चेकिंग की गई तो उसने नकली बाल (विग) के नीचे इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस मिला। उसे पकड़ लिया गया और पुलिस को सौंप दिया गया।

इस मामले में विवेचना के दौरान चदेरू चौकठा जिगना, मिर्जापुर निवासी धर्मराज यादव का नाम प्रकाश में आने पर पुलिस उसे आरोपित बनाया था। अदालत में बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ताओं ने दलील दी कि अभियुक्त के खिलाफ पुलिस ने कोई साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किया है। जिससे यह प्रतीत हो कि वह सॉलवर गैंग का सदस्य है।

घटना के डेढ़ माह बाद पुलिस ने उसे मुल्जिम बनाया है। अदालत ने पत्रावली व साक्ष्यों के अवलोकन के बाद जमानत का पर्याप्त आधार पाते हुए जमानत दे दी गई।

You cannot copy content of this page